'शील' में म्हाडा की फ़ाइल असुरक्षित, 1800 फाइलें जल कर हुई खाक


'शील' में म्हाडा की फ़ाइल असुरक्षित, 1800 फाइलें जल कर हुई खाक
SHARES

जिन महत्वपूर्ण फाइलों को सुरक्षित रखने के लिए झोपडपट्टी पुनर्विकास प्राधिकरणा (एसआरए) ने 'शील' (स्टाॅक होल्डिंग काॅर्पोरेशन आॅफ इंडिया लिमिटेड) कंपनी में रखा था वे महत्वपूर्ण फाइलें आग की चपेट में आने से जल कर खाक हो गईं।चौंकाने वाली बात यह है कि ऐसी फाइलों की संख्या एक दो नहीं बल्कि 18 हजार है। म्हाडा के मुंबई मंडल ने 'शील' के खिलाफ लापरवाही बरतने का आरोप लगते हुए कार्रवाई भी करने की मांग की है। आपको बता दें कि 'शील' नवी मुंबई के महापे में स्थित है।


पुलिस से की शिकायत 
 
'शील' कंपनी में के कंपार्टमेंट नंबर 4 में दिसंबर 2017 को आग लगी थी। बताया जाता है कि इस आग में 18 हजार फाइलें जल कर राख हो गयीं थीं। इस मामले में म्हाडा ने तुर्भे पुलिस स्टेशन में शिकायत भी दर्ज करवाई थी।


चिंता की कोई बात नहीं 

म्हाडा के एक अधिकारी ने बताया कि म्हाडा की जो 18 हजार फाइलें जल गयी हैं उसकी चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। सभी फाइलों को डिजिटल फॉर्मेट में सुरक्षित रखा गया है। इसीलिए म्हाडा आसानी से उन फाइलों को तैयार कर लेगा।

आपको बता दें कि 'शील' कंपनी में विभिन्न सरकारी फाइलों को सुरक्षित रखने के लिए आधुनिक तौर तरीके अपनाती है।फाइलों को डिजिटल फॉर्मेट में सेव करके फिर फाइलों को यहां सुरक्षित रख दिया जाता है। दावा किया जाता है कि शील में फाइलें सभी प्रकार की 'कष्टों' से दूर रहती हैं। अगर आपको यहां कोई फ़ाइल चाहिए तो एक मिनट के अंदर आपके हाथ में उपलब्ध हो जाती है। यहां रखी फाइलों की संख्या लगभग 4 लाख बताई जाती हैं।

संबंधित विषय