छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस में बढ़ेगा ग्रीन एनर्जी का इस्तेमाल

मध्य रेलवे के कई स्टेशनों को पहले से ही ग्रीन एनर्जी से लैस किया जा चुका है।

  • छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस में बढ़ेगा ग्रीन एनर्जी का इस्तेमाल
SHARE

छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसटीएम), जो मध्य रेलवे के मुख्य जंक्शनों में से एक है, जल्द ही ग्रीन एनर्जी के जरिए प्रकाशित हो जाएगा। मध्य रेलवे के कार्यालयों और विभिन्न विभागों के लिए आवश्यक सभी बिजली ग्रीन एनर्जी प्रोजेक्ट से दी जाएंगी।

                                                                                          (सीएसएमटी स्टेशन)

नेरल-माथेरान सेक्शन, आसनगांव और मानखुर्द को पूरी तरह से ग्रीन एनर्जी के साथ बदलने के बाद अब सीएसटीएम स्टेशन को भी ग्रीन एनर्जी के सहायता से बदसा जाएगा। मध्य रेलवे ने भारत सरकार के साथ मिलकर इसकी पहल की है, श्री पावन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसके लिए बिजली प्रति यूनिट 5.18 रुपये दी गई। इस समझौते के तहत, 6 मेगावाट ग्रीन ऊर्जा की शक्ति का उपयोग मध्य रेलवे और दक्षिण पूर्वी रेलवे - छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, मनमाड, भुसावल और नागपुर के 6 अलग-अलग स्टेशनों पर किया जाएगा।

यह भी पढ़े- आईपीएल-11 के इन मैचों का बदल सकता है समय?

इसलिए, कुल 12.93 मिलियन यूनिट ग्रीन ऊर्जा उत्पन्न होने की उम्मीद है जिसका उपयोग सीएसटीएम स्टेशन के कार्यालयों में ऊर्जा संरक्षण के लिए किया जाएगा। महाराष्ट्र के सांगली जिले में बिजली बनाई जाएगी। यह मध्य रेलवे के विभिन्न स्थानों के ग्रिड कनेक्शन से उत्पन्न होगा। मध्य विद्युत विनियामक आयोग (सीईआरसी) से बिजली बिलों पर 1.5 करोड़ बिजली बिल बचाने की उम्मीद जताई है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें