म्हाडा के ईमारत की हकीकत मालूम है आपको...?

मुंबई - अब तक एसआरए बिल्डिंगों की दुर्दशा की बातें सामने आती थी।लेकिन सायन के प्रतीक्षा नगर में बनी म्हाडा की चैतन्य बिल्डिंग, जो की केवल तीन साल पहले ही बनी थी, इसकी ऐसी दुर्दशा हो गयी है जैसे वह खंडहर हो।
यहां की निवासी किरण डुम्बरे ने बताया कि इस ईमारत की दीवारों और पिलर्स में दरार पड़ गयी है। पानी की टंकी और ड्रेनेज से रिसाव शुरू है। यही नहीं ग्राउंड फ्लोर पर बने सभी फ्लैटों में भी पानी का रिसाव हो रहा है।
इस ईमारत में रहने वाले लोगों के अनुसार यहाँ के फ्लैटधारकों की सबसे बड़ी समस्या है बिल्डिंग की बाउंड्री वॉल, जो कि पिछले तीन सालों से बन रही हैं लेकिन अभी तक तैयार नहीं हुयी है। इस सम्बन्ध में कई बार शिकायते भी की गयी लेकिन हर बार म्हाडा के कान में कोई जूं तक नहीं रेंगी। आधी अधूरी बाउंड्री वॉल बनने से सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हो गये हैं।
इस सम्बन्ध में जब म्हाडा के उपाध्यक्ष संभाजी झेंडे से सम्पर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि हमने सारी शिकायतें और समस्याओं की जानकारी ले ली है, हम जल्द ही सभी समस्याओ को सुलझा लेंगे।
ऐसा नहीं है कि म्हाडा की ईमारतों की ऐसी खस्ताहालत सिर्फ इसी चैतन्य बिल्डिंग की हो। ऐसे कई म्हाडा की ईमारते हैं जो कि दुर्दशा का शिकार हैं। कई बार ठेकेदार पर कार्रवाई करने की मांग भी की गयी लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुयी। निम्न दर्जे का निर्माण स्तर म्हाडा की साख पर भी सवाल खड़े करता है।

Loading Comments