Advertisement
COVID-19 CASES IN MAHARASHTRA
Total:
59,97,587
Recovered:
57,53,290
Deaths:
1,19,303
LATEST COVID-19 INFORMATION  →

Active Cases
Cases in last 1 day
Mumbai
14,577
863
Maharashtra
1,21,859
10,066

पर्यारवण को न हो नुकसान, कोस्टल रोड परियोजना में लगाईं जाएंगी ईको फ्रेंडली ईंट

कोली समुदाय के लोगों का कहना है कि इससे उनकी आजीविका प्रभावित होगी तो पर्यावरणप्रेमियों का कहना है कि समुद्र किनारों को पाटने से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचेगा।

पर्यारवण को न हो नुकसान, कोस्टल रोड परियोजना में लगाईं जाएंगी ईको फ्रेंडली ईंट
SHARES


बीएमसी (BMC) द्वारा शुरू की गयी कोस्टल रोड (Coastal road) परियोजना के खिलाफ पर्यावरण प्रेमी और कोली समुदाय के लोगों द्वारा विरोध किया जा रहा है कोली समुदाय के लोगों का कहना है कि इससे उनकी आजीविका प्रभावित होगी तो पर्यावरणप्रेमियों का कहना है कि समुद्र किनारों को पाटने से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचेगा। लेकिन अब बीएमसी ने इसका समाधान ढूंढ निकाला है बीएमसी का कहना है कि कोस्टल रोड परियोजना में कॉन्क्रीट की जगह ईको फ्रेंडली ईंट यानी इको ब्रीक्स (Echo Bricks) लगाई जाएंगी। बीएमसी का दावा है कि इको ब्रीक्स से समुद्री जीवो और पर्यारवण को कोई हानि नहीं होगी।

बताया जा रहा है कि जल्द ही इको ब्रिक्स को मुंबई लाया जाएगा। एक इजरायली कंपनी को इसका ठेका दिया गया है। म्युनिसिपल कमिश्नर (municipal commissioner) के मुताबिक, कोस्टल रोड के लिए कॉन्क्रीट की जगह इको ब्रिक्स  (Echo Bricks) का उपयोग किया जाएगा जो कि पर्यावरण सहायक है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि ये इको ब्रिक्स कोस्टल रोड के लिए बहुत महंगी नहीं होंगी।

पढ़ें: कोस्टल रोड में नहीं होंगे एक भी सिग्नल और टोल नाके, और भी क्या खास है इस कोस्टल रोड में, जानिए यहां

आपको बता दें कि कांदिवली (Kandivali) से नरीमन पॉइंट (nariman point) तक समुद्री तटीय को मिट्टी से पाट कर वहां कोस्टल रोड बनाया जायेगा। आशंका जताई जा रही है कि मिट्टी के पाटने से मछलियों प्रजाति के जीवों पर खतरा मंडरा सकता है, इसी बात को लेकर मछुआरों ने भी विरोध किया था कि उनका मछली पकड़ने का काम भी प्रभावित होगा।

गौरलतब है कि आदित्य ठाकरे (aaditya thackeray) महाराष्ट्र सरकार में टूरिज्म मंत्री (tourism minister) के साथ-साथ पर्यावरण मंत्री (Environmen minister)भी हैं, और कोस्टल रोड परियोजना शिव सेना (shiv sena) का ड्रीम प्रोजेक्ट भी है इसीलिए शिव सेना चाहती है कि कोस्टल रोड परियोजना बिना किसी विवाद के जल्द से जल्द पूरा हो यह प्रोजेक्ट किसी विवाद में न पड़े इसीलिए पर्यावरणप्रेमियों और कोली समुदाय की नाराजगी दूर करने के लिया ही इस  इको ब्रिक्स का यूज किया जा रहा है

पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने BMC को दिया राहत, कोस्टल रोड पर से रोक हटाई

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें