बीकेसी में बुलेट ट्रेन और आईएफएससी एक साथ?


SHARE

बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अब बुलेट ट्रेन का पहला स्टेशन और अंतरराष्ट्रीय वित्त सेवा केंद्र (आईएफएससी) एक साथ बनाए जाएंगे। बीकेसी की जमीन को लेकर चल रही खींचा-तानी खत्म होने के साथ ही यह फैसला लिया गया है। गौरतलब है कि राज्य सरकार को बीकेसी की जमीन को बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट के लिए दिए जाने से मान लिया है. जबकि एमएमआरडीए बीकेसी की जमीन देने के विरोध में था, क्योंकि इसी जमीन पर आईएफएससी बनाया जाने वाला था जो कि सीएम देवेन्द्र फडणवीस का एक ड्रीम प्रोजेक्ट है।

यह भी पढ़े : बीकेसी से दौड़ेगी मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन

पीएम-सीएम का सपना एक साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना था कि मुंबई-अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड ट्रेन बुलेट ट्रेन की शुरुआत की जाए। वहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का सपना था कि मुंबई में आईएफएससी बनाया जाए। लेकिन दोनों का सपना एक ही जगह पर एक साथ सच हो गया है। बुलेट ट्रेन का पहला स्टेशन बीकेसी में बनाया जाएगा, जबकि आईएफएससी भी बीकेसी की ही जमीन पर बनाया जाएगा।

यह भी पढ़े : 2022 में बीकेसी से दौड़ेगी बुलेट ट्रेन

एमएमआरडीए ने रेलवे से बांद्रा टर्मिनस और कुर्ला के पास विकल्प तलाशने को कहा था, लेकिन रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बहरहाल, रेलवे ने इस सुझाव को खारिज कर दिया और एमएमआरडीए को इस बात के लिये सहमत करा लिया कि भारत की पहली हाईस्पीड रेल परियोजना का निर्माण बीकेसी के एक भूमिगत टर्मिनस में किया जाए। अधिकारी ने बताया कि चूंकि स्टेशन को भूमिगत बनाने की योजना है, इसलिए इसके ऊपर की जगह को आईएफएससी निर्माण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। अधिकारी ने बताया कि भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना के आरंभ बिंदु के स्थान को लेकर अनिश्चितताएं खत्म होने के फौरन बाद रेलवे और महाराष्ट्र सरकार इसकी औपचारिक घोषणा कर सकते हैं।

यह भी पढ़े : बुलेट ट्रेन के लिए मिट्टी परीक्षण को एमएमआरडीए की मंजूरी

एमएमआरडीए ने स्पष्ट किया है कि बुलेट ट्रेन टर्मिनल के लिए 9 हेक्टेयर जमीन का उपयोग होगा और आईएफएससी सेंटर का निर्माण 50 हेक्टेयर जमीन पर होगा, इसीलिए बुलेट ट्रेन टर्मिनल के निर्माण के लिए आईएफएससी अगर कुछ जगह देगा तो भी उसे कुछ प्रभाव नहीं पड़ेगा। एमएमआरडीए ने आशा जताई है कि आईएफएससी  के निर्माण में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आएगी। सूत्रों के अनुसार आईएफएससी के लिए दो वैकल्पिक जगहों धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल के नजदीक की भूमि और धारावी के भुखंड पर भी विचार किया जा सकता है लेकिन अभी तक इस पर आधिकारिक रूप से किसी ने भी बात नहीं की है।


अगर कोई तांत्रिक गड़बड़ी नही हुई तो आईएफएससी के लिए दोनों वैकल्पिक जगहों पर भी विचार किया जा सकता है। लेकिन इन जगहों पर बुलेट ट्रेन टर्मिनल के निर्माण से आईएफएससी के निर्माण पर कोई असर नहीं होगा ऐसी हम आशा करते हैं।

यु. पी. एस. मदान, महानगर आयुक्त, एमएमआरडीए



डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

 

 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें