Advertisement

'अडानी' तोड़फोड़ मामले में साथ आई शिवसेना-NCP, कहा- अपमान बर्दाश्त नहीं

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) गठबंधन के सदस्यों शिवसेना और NCP ने कहा मुंबई हवाई अड्डे का नाम जो छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर है उसे बदला गया तो वे उसका विरोध करेंगे।

'अडानी' तोड़फोड़ मामले में साथ आई शिवसेना-NCP, कहा- अपमान बर्दाश्त नहीं
SHARES

शिवसेना (shiv sena) के अधीन आने वाले शिवसेना कार्यकर्ता संघ भारतीय कामगार सेना (BKS) के सदस्यों ने सोमवार 2 अगस्त को मुंबई (mumbai) में हवाई अड्डे के पास छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा के पास लगाई गई अदानी समूह (adani group) के ब्रांड लोगो को तोड़ दिया। यहां पहले छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट (international airport)  लिखा गया था। जैसे ही यह तोड़फोड़ हुई, इसका वीडियो सोशल मीडिया (social media) में वायरल हो गया।

वीडियो में दिख रहा है कि करीब 10 से 15 लोग हाथों में लोहे और लकड़ी के डंडे से 'अडानी' पर प्रहार करके उसे तोड़ दिया।

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (MVA) गठबंधन के सदस्यों शिवसेना और NCP ने कहा मुंबई हवाई अड्डे का नाम जो छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर है उसे बदला गया तो वे उसका विरोध करेंगे।

बीकेएस अध्यक्ष और शिवसेना के लोकसभा सांसद अरविंद सावंत (arvind sawant) ने कहा कि 'हवाई अड्डे का नाम बदलने की कोशिश बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यह और कुछ नहीं बल्कि छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान है।'

नाम बदलने के प्रस्ताव की आलोचना करते हुए NCP नेता नवाब मलिक (nawab malik) ने कहा कि, मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम पहले एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) द्वारा दिया गया था और इसका प्रबंधन जीवीके के पास था। लेकिन अब, अदानी ने जीवीके (GVK) की हिस्सेदारी ले ली है और हवाई अड्डे के सह-मालिक बन गए हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उन्हें हवाई अड्डे का नाम अपने नाम से रखना होगा।

ANI से बात करते हुए उन्होंने कहा, "इस कदम से महाराष्ट्र के साथ-साथ देश के लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी के वीआईपी गेट का नाम भी अडानी ने रख दिया है, जो बर्दाश्त के बाहर है। इससे लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं। उन्हें सावधानी बरतनी होगी और भविष्य में इसी तरह की समस्याओं से बचना चाहिए।

इस बीच, अदानी समूह ने एक बयान जारी कर स्पष्ट किया कि वे केवल पिछली ब्रांडिंग की जगह ले रहा है। समूह की तरफ से यह भी कहा गया कि, छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की ब्रांडिंग या टर्मिनल पर स्थिति में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

बता दें कि, इसी साल जुलाई में अडानी ग्रुप ने मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का प्रबंधन जीवीके ग्रुप के नियंत्रण से अपने हाथ में ले लिया। इसके बाद, मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में अदानी समूह की 74 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें