Advertisement

महाराष्ट्र: स्पीकर के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में BJP के 12 विधायक निलंबित

शिवसेना नेता और परिवहन मंत्री अनिल परब (anil parab) ने इन विधायकों के निलंबन का प्रस्ताव रखा जिसे सत्ता पक्ष ने ध्वनि मत से पारित कर दिया।

महाराष्ट्र: स्पीकर के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में BJP के 12 विधायक निलंबित
SHARES

महाराष्ट्र (Maharashtra) में चल रहे विधानसभा के मानसून सत्र (monsoon session) का पहला दिन न केवल हंगामेदार रहा बल्कि स्पीकर के साथ दुर्व्यवहार के आरोप में BJP के 12 विधायकों (bjp 12 mla suspended) को एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया। अब ये निलंबित विधायक न तो मुंबई के और न ही नागपुर (nagpur) के विधानसभा में प्रवेश कर पाएंगे।

क्या है पूरा मामला

सोमवार को विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित किया गया, जिसकेे तहत केंद्र से 2011 की जनगणना के आंकड़े उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया ताकि राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग ओबीसी आबादी का डेटा तैयार करके उसी आधार पर स्थानीय निकायों में राजनीतिक आरक्षण बहाल किया जा सके।

एनसीपी नेता और राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल (chhagan bhujbal) द्वारा पेश करते ही BJP नेताओ ने हंगामा शुरू कर दिया।

बताया जा रहा है कि, इसी दौरान BJP के कुछ विधायक सदन के वेल में आकेर राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। यही नहीं शिवसेना (shiv sena) नेता सुनील प्रभु (sunil prabhu) और एनसीपी (ncp) नेता नवाब मलिक (nawab malik) ने आरोप लगाया कि भाजपा सदस्यों ने कार्यवाहक स्पीकर के साथ दुर्व्यवहार किया और अध्यक्ष के कक्ष में उनके साथ मारपीट की।

यही नहीं कार्यवाहक स्पीकर भास्कर जाधव (bhaskar jadhav) ने सदन को समझाया कि जब सदन स्थगित हुआ तो बीजेपी के नेता मेरे केबिन में आए और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस (devendra fadnavis) और वरिष्ठ नेता चंद्रकांत पाटिल के सामने मुझे गालियां दी।

जिसके बाद शिवसेना नेता और परिवहन मंत्री अनिल परब (anil parab) ने इन विधायकों के निलंबन का प्रस्ताव रखा जिसे सत्ता पक्ष ने ध्वनि मत से पारित कर दिया।

निलंबन झेलने वाले इन 12 विधायकों में संजय कुटे, आशीष शेलार, योगेश सागर, गिरीज महाजन, हरीश पिंपले, अतुल भातरखलकर, अभिमन्यु पवार, बंटी बांगडीया और नारायण कुचे का नाम शामिल है।

विपक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि स्पीकर भाष्कर जाधव ने विपक्षी दलों के नेता को भी गाली भी दी।

इस पूरे मामले पर पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये झूठे आरोप लगाए गए हैं। हम ओबीसी रिजर्वेशन के लिए अपने 12 विधायक कुर्बान करने को तैयार है. बीजेपी की तरफ से किसी ने गाली नहीं दी।

इस निलंबन पर बीजेपी विधायक आशीष शेलार (ashish shelar) ने कहा कि ठाकरे सरकार 'तालिबान' की तरह काम कर रही है। मैं इस कार्रवाई की निंदा करता हूं। न तो मैंने और न ही किसी अन्य विधायक ने भास्कर जाधव को गाली दी। मैंने उनसे माफी भी मांगी, इसके बावजूद उन्होंने हमें सस्पेंड कर दिया।

Read this story in English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें