प्रकाश आंबेडकर और ओवैसी की पार्टी का गठबंधन टुटा, MIM का अकेले लड़ने का फैसला

लोकसभा चुनाव में जिस तरह से VBA और MIM के गठबंधन ने प्रदर्शन किया था उसके बाद तो पार्टी का आत्मविश्वास आसमान पर था

SHARE

विधानसभा चुनाव में सीट बंटवारे मुद्दे को लेकर हर पार्टियों में मतभेद उभर कर सामने आ रहे हैं। ताजा मामला वंचित बहुजन आघाड़ी (VBA) और उसकी सहयोगी पार्टी मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमिन (AIMIM) है। इन दोनों पार्टियों के बीच सीटों को लेकर फूट पड़ने की खबर है.

सीट बंटवारे पर हुई असहमति
बताया जाता है कि महाराष्ट्र ने होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर VBA और MIM ने साथ मिल कर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। MIM ने अपनी तरफ से कुल 80 सीटों पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव VBA के पास भेजा था, इसके जवाब में VBA की तरफ से प्रकाश आंबेडकर ने असदुद्दीन ओवैसी को 4 सितंबर को एक मैसेज भेज कर मात्र 8 सीट देने का प्रस्ताव रखा।

पढ़ें: Maharashtra Assembly Election 2019: बीजेपी और शिवसेना के बीच सीट बंटवारा, बीजेपी के लिए 'बाहरी' बन सकते हैं गले की फांस

सूत्रों के अनुसार आंबेडकर के इस मैसेज से MIM में नाराजगी फैल गयी। पार्टी ने निर्णय लिया है कि आने वाले दो दिनों में अगर सीट बंटवारे को लेकर उचित समाधान नहीं निकला तो पार्टी खुद के बल पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी से जुड़े पदाधिकारियों का कहना है कि पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी खुद 24 सीटों पर चुनाव लड़ी थी तो इससे कम पर लड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव का समय करीब आते जा रहा है वैसे वैसे पार्टियों के बीच सीट बंटवारे को लेकर मतभेद सामने आते जा रहे हैं। बीजेपी-शिवसेना हो या कांग्रेस-एनसीपी या फिर अब VBA और MIM का मामला हो। लोकसभा चुनाव में जिस तरह से VBA और MIM के गठबंधन ने प्रदर्शन किया था उसके बाद तो पार्टी का आत्मविश्वास आसमान पर था, लेकिन अब VBA और MIM का गठबंधन टूट जाने पर दोनों पार्टियों के लिए यह बड़ा झटका हो सकता है।

पढ़ें: Maharashtra Assembly Election 2019: कांग्रेस और एनसीपी के बीच 125-125 सीटों का फॉर्मूला

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें