Maharashtra assembly election 2019: कांग्रेस और एनसीपी के बीच 125-125 सीटों का फॉर्मूला

इस संबंध में, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि दोनों दलों के नेताओं ने गठबंधन करके और मिल कर चुनाव लड़ने पर सहमति जताई है।

SHARE

जैसे-जैसे महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव करीब आता जा रहा है वैसे-वैसे राजनीतिक पार्टियों के बीच सीट बंटवारे को लेकर बैठक भी होनी शुरू हो गयी है। बीजेपी-शिवसेना के बाद अब कांग्रेस-एनसीपी के बीच भी इसी तरह की बात सामने आ रही है। कांग्रेस और एनसीपी के बीच 125-125 सीटों का फॉर्मूला तय होने की बात सांसद हुसैन दलवाई ने कही है। दलवाई ने कहा कि इस लिस्ट को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास भेज दिया गया है।

'पैनल का निर्णय होगा आखिरी' 
दलवी ने यह भी बताया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की अध्यक्षता में एक पैनल का गठन हुआ है जो इस बारे में अपना अंतिम निर्णय लेगी। इस पैनल में ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा  अशोक चव्हाण, मणिकराव ठाकरे, महाराष्ट्र के कांग्रेस प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे, राजीव साटव सहित  और कई वरिष्ठ नेता शामिल हैं।

पढ़ें: एनसीपी के रायगढ़ जिला अध्यक्ष प्रमोद घोसालकर शिवसेना में करेंगे प्रवेश

'अभी होनी है और भी बैठक' 
इस संबंध में, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि दोनों दलों के नेताओं ने गठबंधन करके और मिल कर चुनाव लड़ने पर सहमति जताई है। सीट बंटवारे को लेकर क्या नीति अपनाई जाए इस बारे में अभी बैठक चल रही है। कांग्रेस की तरफ से पहले चरण में 80 मौजूदा विधायकों के नामों की सूची बनाई है।

'MNS के बारे में कोई बात नहीं'
चव्हाण ने आगे कहा कि वंचित बहुजन मोर्चा प्रमुख प्रकाश अंबेडकर के साथ चर्चा बंद नहीं हुई है। लेकिन अंबेडकर को सकारात्मक भूमिका निभानी चाहिए। शरद पवार से हर्षवर्धन पाटिल के बारे में सकारात्मक निर्णय लेने की उम्मीद है। चव्हाण ने यह भी बताया कि एमएनएस को मोर्चे में शामिल करने के बारे में कोई चर्चा नहीं हुई है।

पढ़ें: बीजेपी और शिवसेना के बीच सीट बंटवारा, बीजेपी के लिए 'बाहरी' बन सकते हैं गले की फांस

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें