मराठा मोर्चे ने बुझाई अगस्त क्रांति दिवस की याद की ज्योत

 Mumbai
मराठा मोर्चे ने बुझाई अगस्त क्रांति दिवस की याद की ज्योत

मुंबई में हर 9 अगस्त के दिन अगस्त क्रांति दिवस मनाया जाता है। अगस्त क्रांति मैदान में स्वतंत्रता संग्राम में शहीद हुए सेनानियों को श्रद्धांजली दी जाती है, लेकिन इस बार मराठा मोर्चा की आंधी में इस दिवस की याद सबके दिमाग से बुझ गई। कांग्रेस को छोड़ कर किसी ने भी शहीदों को श्रद्धांजली नहीं दी, यहाँ तक कि कांग्रेस ने भी कार्यक्रम का आयोजन कर किसी तरह से खानापूर्ति कर दी।

1942 में मुंबई में हुए कांग्रेस अधिवेशन में महात्मा गांधी ने 'अंग्रेजो भारत छोड़ो' और 'करो या मरो' का नारा इसी दिन ही दिया था। इसके बाद तो जैसे अंग्रेजो के खिलाफ पूरे देश में जैसे क्रांति की लहर ही फ़ैल गई। इसीलिए उस दिन की याद में 9 अगस्त को अगस्त क्रांति दिवस मनाया जाता है, और मुंबई के अगस्त क्रांति मैदान में सभी राजनीतिक पार्टियों द्वारा शहीदों को श्रद्धांजली दी जाती है।

इस बार इस दिवस के 75 साल पूरे हो गए। कांग्रेस ने आज के दिन भव्य दिव्य कार्यक्रम के आयोजन का निर्णय लिया था, इसके लिए हर नगरसेवक, पधाधिकारियों को अगस्त क्रांति मैदान में उपस्थित रहने के लिय कहा गया था। लेकिन मराठा मोर्चा के आन्दोलन को देखते हुए कांग्रेसियों ने जल्दबाजी में ही इस कार्यक्रम को सुबह 9:30 को ही समाप्त कर दिया।

कांग्रेस के इस आयोजन में मुंबई अध्यक्ष संजय निरुपम, महाराष्ट्र प्रभारी मोहन प्रकाश महाराष्ट्र प्रदेशाध्यक्ष अशोक चव्हाण, पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण सहित काँग्रेस के अन्य नेता भी इस कार्यक्रम में उपस्थित हुए थे।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

 

 

Loading Comments