बालासाहेब की जयंती पर शिवसेना और मनसे का शक्तिप्रदर्शन

इसी दिन जहां मनसे मुंबई में महाअधिवेशन आयोजित करेगी तो वहीं दूसरी तरफ शिव सेना की तरफ से भी बांद्रा के बेकसी में 'वचनपूर्ती जल्लोष मेला' आयोजित किया जा सकता है।

SHARE

शिवसेना प्रमुख दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की जयंती के अवसर पर यानी 23 जनवरी के दिन शिवसेना और मनसे (maharashtra navnirman sena) के बीच शक्ति प्रदर्शन करने की होड़ लग सकती है। इसी दिन जहां मनसे मुंबई में महाअधिवेशन आयोजित करेगी तो वहीं दूसरी तरफ शिव सेना की तरफ से भी बांद्रा के बेकसी में 'वचनपूर्ती जल्लोष मेला' आयोजित किया जा सकता है।

शिवसेना की तरफ से कहा गया कि, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बालासाहेब ठाकरे को राज्य में शिवसेना का ही मुख्यमंत्री बनाने का वचन दिया था। उद्धव ने अपने वचन की पूर्ति की है। इसलिए अब पार्टी की तरफ से उद्धवजी का सत्कार किया जाएगा।  

बताया जाता है कि इस कार्यक्रम में 50 हजार से अधिक शिव सैनिक कार्यकर्ता, पदाधिकारी सहित अन्य बड़े नेता उपस्थित हो सकते हैं। इस कार्यक्रम में देश की बड़ी पार्टियों के बड़े नेता, उद्योगपति, बॉलीवुड हस्तियां सहित अन्य माननीयगण हाजिर हो सकते हैं।

पढ़े: ‘मनसे’ के झंडे का बदलेगा रंग, होगा भगवा 

जबकि दूसरी ओर मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे गोरेगांव के नेस्को सभागार में पार्टी के महाअधिवेशन में शक्तिप्रदर्शन करेंगे। राज इस महाअधिवेशन में पार्टी के नीतियों में व्यापक बदलाव की घोषणा कर सकते हैं। मनसे की इस महाधिवेशन में भी 18 से 20 हजार लोगों की उपस्थित होने की बात की जा रही है।

मनसे की इस महाधिवेशन में सभी की नजरें टिकी हुई क्योंकि राज ठाकरे इस महाधिवेशन में पार्टी की भूमिका तो तय करेंगी ही साथ ही इसमें वे बीजेपी के साथ जाने की लग रहीं अटकलों पर भी कुछ बोलेंगे इसका भी अंदेशा जताया जा रहा है।

तो अब देखना होगा कि 23 जनवरी को मनसे या शिव सेना के बीच होने वाली शक्ति प्रदर्शन में मनसे अपना जलवा बिखेरती है या शिव सेना अपना जादू बरकरार रखती है।

पढ़ें: मानखुर्द बीएमसी उपचुनाव: शिव सेना के उम्मीदवार विट्ठल लोकरे का हाथ लगी बाजी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें