Advertisement

उद्धव ठाकरे पर आशिष शेलार का निशाना , कहा -तुम्हारे बाप का राज्य है क्या?

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक साक्षात्कार ने कहा था की राज्य में उनकी सरकार NRC लागू नहीं होने देगी

उद्धव ठाकरे पर आशिष शेलार का निशाना , कहा -तुम्हारे बाप का राज्य है क्या?
SHARES
Advertisement

राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे(uddhav thackeray) ने सामना संपादक संजय राउत(sanjay raut) को दिए एक साक्षात्कार में कहा, "नागरिकता संशोधन अधिनियम महाराष्ट्र में लागू नहीं होगा।" उनके इसी बयान की बीजेपी नेता और पूर्व शिक्षा मंत्री आशीष शेलार ने आलोचना की है । आशिष शेलार ने कहा की “यह कानून केंद्र है। कानून लागू नहीं होने देंगे, इसका मतलब क्या राज्य आपके पिता है? ” नालासोपारा में आयोजित एक कार्यक्रम में आशिष शेलार ने ये बात कही।  

भूमिका की भी आलोचना
आशिष शेलार ने शिवसेना के नागरिकता संशोधन अधिनियम की भूमिका की भी आलोचना की। आशिष शेलार ने कहा की  "शिवसेना वर्तमान में इतने रंग बदल रही है की रंग बदलने वाले भी आत्महत्या कर लेंगे,। यह कार्यक्रम नालासोपारा में भाजपा के वरिष्ठ नेता और वसई जनता सहकारी बैंक के पूर्व निदेशक सुरेश जोशी के स्मरणोत्सव पर आयोजित किया गया था। आशीष शेलार ने इस कार्यक्रम में (भारतीय छात्र आंदोलन के दशा और दिशा) विषय पर बोलते हुए उद्धव ठाकरे की आलोचना की ।

शरद पवार पर भी निशाना

आशिष शेलार ने कहा की  “नागरिकता संशोधन अधिनियम और राष्ट्रीय नागरिकता पंजीकरण अधिनियम के खिलाफ मुस्लिम समाज के युवा छात्रों द्वारा मुंबई में विरोध शुरू किया गया , कुछ दिनों पहले  एक युवा नेता गेटवे ऑफ इंडिया में आंदोलन में शामिल हुआ उस समय न केवल सरकार विरोधी, बल्कि देश विरोधी घोषणाएँ की गई थीं,  एनसीपी के नेता भी इस आंदोलन में शामिल हुए,  यशवंतराव चव्हाण प्रतिष्ठान के अध्यक्ष कौन हैंगृह मंत्री कौन है? इसके बावजूदराज्य में छात्रों द्वारा एक बहुत बड़ी साजिश रची जा रही है और यह साजिश यशवंतराव चव्हाण प्रतिष्ठान के इर्द-गिर्द घूम रही है"

क्या कहा था उद्धव ठाकरे ने 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सामना को दिये एक साक्षात्कार में कहा थी वह CAA का समर्थन करते है लेकिन राज्य में NRC को लागू नहीं करेंगे। ठाकरे ने कहा, 'सीएए से देश के किसी भी नागरिक की नागरिकता नहीं छीनी जाएगी। हालांकि एनआरसी को महाराष्ट्र में लागू नहीं होने दिया जाएगा। एनआरसी लागू होने से हिंदू और मु्स्लिमों दोनों के ही लिए नागरिकता साबित करना काफी मुश्किल हो जाएगा। मैं ऐसा नहीं होने दूंगा।'

यह भी पढ़े- उद्धव ठाकरे ने किया CAA का समर्थन लेकिन NRC को नहीं करेंगे राज्य में लागू

संबंधित विषय
Advertisement