विरोधी नेताओं के बैंकों के लिए कर्जमाफ नहीं - मुनगंटीवार

 Mumbai
विरोधी नेताओं के बैंकों के लिए कर्जमाफ नहीं - मुनगंटीवार
विरोधी नेताओं के बैंकों के लिए कर्जमाफ नहीं - मुनगंटीवार
विरोधी नेताओं के बैंकों के लिए कर्जमाफ नहीं - मुनगंटीवार
See all

मुंबई - किसानों की कर्जमाफी को लेकर पिछले चार दिनों से विधान सभा और विधान परिषद का कामकाज बंद है। इस मुद्दे पर शिवसेना और विपक्ष मिलकर बीजेपी के खिलाफ आ गये हैं। अब बीजेपी भी किसान कर्जमाफी के मुद्दे पर उतर आई है। बीजेपी विधायक किसन कथोरे ने पत्रकारों को बताया कि बीजेपी के सभी विधायकों ने मिलकर किसानों की कर्ज माफ़ी को लेकर मुख्यमंत्री से मांग की है।

उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाया कि विरोधी पक्ष के कुछ नेता अपनी बैंक के फायदे के लिए किसानों के कर्जमाफी की मांग कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि कुछ नेता बोगस किसानों के नाम से कर्जमाफी की मांग कर रहे हैं ताकि उनकी बैंकों को भी फायदा हो सके। इस मुद्दे पर शिवसेना के विधायकों ने गुरूवार को विधानसभा में हंगामा किया। उन्होंने किसानों के कर्जमाफ़ी और उनका 7/12 क्लियर करने की मांग की थी। शिवसेना ने यह भी कहा कि बीजेपी के आंसू किसानों के लिए मात्र दिखावे के लिए हैं।

एनसीपी नेता अजित पवार ने कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी पार्टी के नेताओं को साथ आकर इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री से मिल कर जल्द से जल्द इसका कर्जमाफी की घोषणा करे यह मांग करनी चाहिए, तो वही वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवर ने कहा कि किसानों के अच्छे दिन आये इसके लिए हमारी सरकार काम कर रही है। राज्य की तिजोरी पर पहला हक़ किसानों का है।

उन्होंने आगे कहा कि अगर समय पर किसानों की भावनाओं को उस समय की सरकार ने समझा होता तो आज यह दिन नहीं आता। उन्होंने स्पष्ट किया कि कर्ज मुक्ति मतलब विरोधियों के बैंकों की कर्ज मुक्ति नहीं है, अगर सरकार को लगता है कि किसानों के कर्ज माफ़ करना चाहिए तो हम करेंगे। कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं के बैंकों के लिए कर्जमाफ नहीं किया जाएगा।

Loading Comments