Advertisement

सीएम उद्धव ठाकरे नए हैं और डरे हुए हैं, महाराष्ट्र में स्थिति काबू से बाहर - देवेंद्र फडणवीस

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पत्रकारों से बात करते हुए, भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि मुख्यमंत्री COVID-19 स्थिति से निपटने के लिए पहल करने से "डरे हुए" हैं।

सीएम उद्धव ठाकरे नए हैं और डरे हुए हैं, महाराष्ट्र में स्थिति काबू से बाहर - देवेंद्र फडणवीस
SHARES
Advertisement

महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता (LoP) देवेंद्र फडणवीस (devendra fadnavis) ने गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) पर निशाना साधा और राज्य में COVID-19 की स्थिति को काबू से बाहर होने की बात कही। फडणवीस ने कहा कि राज्य में स्थिति और खराब हो रही है जबकि मुख्यमंत्री डरे हुए हैं वे नए हैं और कुछ फैसला नहीं ले पा रहे हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पत्रकारों से बात करते हुए, भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता  देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि मुख्यमंत्री COVID-19 स्थिति से निपटने के लिए पहल करने से "डरे हुए" हैं।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने आगे बताया कि सरकारी अस्पतालों में COVID-19 रोगियों के लिए मुंबई में बेड नहीं हैं, जबकि दावा किया गया है कि निजी अस्पतालों की गहन चिकित्सा इकाइयों (ICU) में आधे बेड खाली पड़े हैं।

उन्होंने आगे कहा, निजी अस्पताल COVID-19 रोगियों से प्रति दिन का 25 से 30,000 रुपये शुल्क ले रहे हैं, और ये अस्पताल केवल उन्हीं को बेड दे रहे हैं जो भुगतान कर सकते हैं।

इससे पहले, महाराष्ट्र के सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (rajesh tope) ने जानकारी दी कि, निजी अस्पतालों को भी नियमों का पालन करना होगा और 80 प्रतिशत शुल्क राज्य सरकार द्वारा निर्धारित किया जाएगा।

देवेंद्र फडणवीस ने अपनी बातचीत के दौरान कहा कि, COVID-19 संकट से निपटने में उद्धव ठाकरे सरकार की सबसे बड़ी समस्या है। उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री नए हैं और कार्रवाई करने से डरते हैं और नौकरशाही पर बहुत भरोसा करते हैं।

फडणवीस ने कहा कि सरकार में आपसी समन्यवय नहीं है, इसके साथ ही नौकरशाहों के भीतर भी गुटबाजी बनी है और उनमें भी समन्वय स्थापित करने की कमी है।

महाराष्ट्र में भाजपा ने शिवसेना (shivsena) की अगुवाई वाली MVA सरकार द्वारा राज्य में Covid-19 की 'काबू से बाहर' हो चुकी स्थिति को उजागर करने के लिए "महाराष्ट्र बचाओ आंदोलन (save Maharashtra andolan) लॉन्च किया है।

बीजेपी नेता ने लोगों से अपील की है कि वह 22 मई को अपने घरों के बाहर काले झंडे लगाकर विरोध प्रदर्शन करें, ताकि शिव सेना के नेतृत्व वाली एमवीए सरकार (MVA government) को COVID-19 की स्थिति से निपटने में विफलता को उजागर किया जा सके।

संबंधित विषय
Advertisement