'ईस्टर्न फ्री वे' को दिया जाएगा दिवंगत विलासराव देशमुख का नाम

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने मंगलवार को संबंधित अधिकारियों को इस मामले में काम शुरु करने के आदेश भी दे दिये है।

SHARE

मुंबई के  'ईस्टर्न फ्री वे' को ट्रैफिक के लिए काफि महत्तवपुर्ण माना जाता है। अब इस   'ईस्टर्न फ्री वेको पूर्व  मुख्यमंत्री दिवंगत विलासराव देशमुख का नाम दिया जाएगा।   उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने मंगलवार को संबंधित अधिकारियों को इस मामले में काम शुरु करने के आदेश भी दे दिये है।  उपमुख्यमंत्री अजित पवार की अध्यक्षता में  राज्य की आर्थिक स्थिती और  परिवहन विभाग की बैठक का आयोजन किया गया।  ये बैठक मंत्रालय में आयोजित की गई। 

 16.8 किमी लंबी

दक्षिण मुंबई से चेंबूर तक पी डेमेलो रोड को जोड़ने वाली सड़क  'ईस्टर्न फ्री वे’ 16.8 किमी लंबी है। इसके कारण, दक्षिण मुंबई में पुणे और गोवा से आने वाले और मुंबई के बाहर पहुंचने वाले वाहनों को काफी आसानी होती है।  उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने मंगलवार को आयोजित परिवहन विभाग की बैठक के दौरान राज्य में परिवहन सेवाओं में सुधार के लिए कई सुझाव दिए।

इस बैठक में अजीत पवार ने सुझाव दिया कि दिवंगत विलासराव देशमुख ने मुख्यमंत्री के रूप में तत्कालीन गठबंधन सरकार के शासन में मुंबई के विकास में काफी काम किया है।  इसके साथ ही  'ईस्टर्न फ्री वे' को बनाने में भी उनका काफी अहम योगदान था। जिसके कारण इस रास्ते का नाम अब उनके नाम पर रखा जाएगा।  

 14 जून 2013 से शुरु

मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण की ओर से और केंद्र सरकार के जेएनआरएमयू स्किम के तरह 'ईस्टर्न फ्री वे' को बनाने में 1436 करोड़ रुपये का खर्च आया था और  14 जून 2013 को इसे आम लोगों के लिए खोल दिया गया था।

यह भी पढ़ेट्रैफिक कांस्टेबल ने किया रुकने का इशारा तो स्कूटी सवार ने उड़ा दिया

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें