धर्मा पाटील आत्महत्या प्रकरण : तीन के खिलाफ केस दर्ज करने की सिफारिश

अपना हक़ पाने के लिए पाटील ने कई दिनों तक दौड़ भाग की कई नेताओं से मिले लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। आख़िरकार परेशान होकर 22 जनव

SHARE

मंत्रालय में जगह पीकर आत्महत्या करने वाले 80 वर्षीय किसान धर्मा पाटील वाले मामले में जांच समिति ने तत्कालीन जमीन अधिग्रहण अधिकारी प्रतिभा सपकाले, तहसीलदार रोहिदास खैरनार और मध्यस्ता कराने वाले दत्तात्रेय देसले इन तीनों के खिलाफ केस दर्ज कराने की सिफारिश की गयी है। आपको बता दें कि 80 वर्षीय किसान धर्मा पाटील की आत्महत्या के बाद जज श्याम दरने की अध्यक्षता में एक जांच समिति का गठन किया गया था।

क्या था मामला?
धुले के रहने वाले धर्मा पाटील की 5 एकड़ जमीन सरकार द्वारा अधिग्रहण की गयी थी। इस जमीन के बदले पाटील को मात्र 4 लाख रूपये ही दिए गये थे। इस जमीन पर पाटील ने 600 आम के पेड़ लगाये थे। पाटील का कहना था कि उसे जितने पैसे मिले थे उतने के केवल आम ही थे। पाटील का आरोप था कि उन्हें जमीन कि कीमत दी ही नहीं गयी थी। अपना हक़ पाने के लिए पाटील ने कई दिनों तक दौड़ भाग की कई नेताओं से मिले लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

आख़िरकार परेशान होकर 22 जनवरी 2018 के दिन धर्मा पाटील ने मंत्रालय में जहर पी लिया, और इलाज के दौरान 28 जनवरी की उनकी मौत हो गयी।

इसके बाद इस मामले में तुल पकड़ा और काफी हो हल्ला के बाद सरकार ने एक जज की अध्यक्षता के जांच समिति का गठन कर दिया। जांच में तत्कालीन जमीन अधिग्रहण अधिकारी प्रतिभा सपकाले, तहसीलदार रोहिदास खैरनार और मध्यस्ता कराने वाले दत्तात्रेय देसले इन तीनों को आरोपी मानते हुए इनके खिलाफ केस दर्ज कराने की सिफारिश की गयी है।  

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें

धर्मा पाटील आत्महत्या प्रकरण : तीन के खिलाफ केस दर्ज करने की सिफारिश
00:00
00:00