गवली बहनों की राह में कांटे ही कांटे

 Pali Hill
गवली बहनों की राह में कांटे ही कांटे

मुंबई - भायखला विधानसभा में अखिल भारतीय सेना (अभासे) की दो नगसेविका गीता गवली और वंदना गवली हैं, जो इस बार जीत की हैट्रिक मारने के लिए मैदान में उतरेंगी। लेकिन इस बार शिवसेना की तरफ से इनकी मदद के लिए कोई पहल अबतक नहीं की गई है, जिससे इनकी जीत की राह आसान नजर नहीं आ रही।

अभासे की गीता गवली और वंदना गवली नए प्रभाग पुनर्रचना के बाद 212 और 207 प्रभाग हो गया है। दोनों ही नगसेविका गवली परिवार से हैं। 2007 में शिवसेना ने इन दोनों को समर्थन दिया था जिससे इन्होंने आसानी से जीत हासिल की थी। 2012 में इन दोनों के सामने आरपीआई के प्रत्याशी थे जिसे इन्होंने पराजित किया था। इस बार दोनों शिवसेना के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहती थी लेकिन शिवसेना की तरफ से कोई उत्तर नहीं मिला। जिससे ये फिर से अपनी पार्टी अखिल भारतीय सेना से चुनाव लड़ेंगी।

प्रभाग क्रमांक 212 से गीता गवली चुनाव लड़ेंगी जिनके सामने कांग्रेस नगरसेवक फय्याज अहमद खान की पत्नी व एआयएमआयएम और सपा के उम्मीदवार मैदान में होंगे। वहीं प्रभाग 207 में वंदना गवली चुनाव लड़ेंगी। जिनके सामने राष्ट्रवादी कांग्रेस महिला मुंबई अध्यक्षा सुरेखा पेडणेकर, शिवसेना शाखाप्रमुख काका चव्हाण की पत्नी के साथ कांग्रेस और मनसे के उम्मीदवार होंगे।

Loading Comments