महात्मा गांधी को लेकर विवादित ट्वीट करने वाली निधी चौधरी का तबादला!

बीएमसी में तैनात आईएएस अधिकारी निधि चौधरी के महात्मा गांधी को लेकर दिए विवादित बयान ने तूल पकड़ लिया था। राजनौतिक पार्टियों के कड़े विरोध के बाद आज ‘सोमवार’ को उनका तबादला हो गया है।

SHARE

बीएमसी में तैनात आईएएस अधिकारी निधि चौधरी के महात्मा गांधी को लेकर दिए विवादित बयान ने तूल पकड़ लिया था। राजनौतिक पार्टियों के कड़े विरोध के बाद आज ‘सोमवार’ को उनका तबादला हो गया है। अब निधी बीएमसी को छोड़ मंत्रालय में जल आपूर्चति विभाग में शामिल होंगी।

निधि चौधरी ने अपने ट्वीट में था, 150वीं जयंती को मनाने के पीछे क्या उम्मीद हो सकती है। यह सही वक्त है कि देश की करंसी से उनकी तस्वीर हटाई जाए और उनके स्टेटस को भी दुनिया से हटाया जाना चाहिए। अब हमें एक सच्ची श्रद्धांजलि देने की जरूरत है... धन्यवाद गोडसे 30.01.1948 के लिए। निधि के इस ट्वीट पर विवाद शुरू हो गया था। बाद में निधि ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया था साथ ही दूसरा ट्वीट करके इसपर उन्होंने सफाई भी दी थी।

चारो तरफ हो रही आलोचनाओं के बाद निधि चौधरी दावा किया कि महात्मा गांधी की आत्मकथा उनकी सबसे पसंदीदा पुस्तक है और उनके ट्वीट को 'गलत समझा' गया है। उन्होंने शनिवार को फिर से ट्वीट करते हुए लिखा, जिन्होंने मेरे 17-05-2019 के ट्वीट को गलत समझा है, उन्हें मेरी टाइम लाइन देखनी चाहिए। पिछले कुछ महीने के ट्वीट भी अपने आप में पर्याप्त हैं। मैं व्यंग्य के साथ लिखे इस ट्वीट को गलत तरीके से समझे जाने से बहुत दुखी हूं। चौधरी ने लिखा है, मैं कभी गांधी जी का अपमान नहीं करूंगी। गांधी जी हमारे राष्ट्रपिता हैं और 2019 में हम सभी को देश को बेहतर बनाने के लिए कुछ करना चाहिए। आशा करती हूं कि मेरे ट्वीट को गलत समझने वाले लोग उसमें निहित व्यंग्य को समझेंगे।

निधी का खुद को बचाना काम नहीं आया, उन्हें तबादले का सामना करना पड़ा। निधी का मंत्रालय में जल आपूर्ति विभाग में ट्रांसफर हुआ है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें