क्या जीएसटी पर फिर दिखेगा शिवसेना-बीजेपी का टकराव?

 Mumbai
क्या जीएसटी पर फिर दिखेगा शिवसेना-बीजेपी का टकराव?

जीएसटी के कार्यान्वयन के विरोध का संकेत देते हुए शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि बीएमसी को वित्तीय सहायता के लिए सरकार के सामने मांग रखने की नौबत नहीं आनी चाहिए, अगर ऐसा होता है तो उनकी पार्टी अपने रुख पर पुनर्विचार करेगी।

यह भी पढ़े- 'मन की बात' बंद करें और 'गन की बात' शुरू करें मोदी - उद्धव ठाकरे

शिवसेना भवन में गुरुवार को आयोजित विधायकों और नगरसेवकों की बैठक के दौरान ठाकरे ने भाजपा की आलोचना की। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी जीएसटी के कार्यान्वयन का सख्ती से विश्लेषण करेगी और अगर बीएमसी अपनी स्वायत्तता का दर्जा खोती दिख रही है तो शिवसेना अपने रुख पर पुनर्विचार करेगी।

जीएसटी लागू होने के बाद बीएमसी जकात के रूप में अपनी होनेवाली कमाई खो देगी। केंद्र सरकार से मानधन प्राप्त करने वाली राज्य सरकार को बीएमसी को पैसे देने होंगे। इसलिए, शिवसेना के मंत्रियों और विधायकों को जीएसटी के लिए आयोजित होने वाले विधानसभा सत्र के दौरान उचित कदम उठाने होंगे।

यह भी पढ़े- लेट लतीफ मेयर साहब को जब उद्धव ठाकरे ने दी नसीहत...

राज्य सरकार ने जीएसटी विधेयक को पारित करने के लिए एक विशेष विधानसभा सत्र बुलाया है और सरकार को इस बिल को पारित कराने के लिए शिवसेना के समर्थन की आवश्यकता है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इस विशेष सत्र के दौरान शिवसेना क्या रुख अपनाती है।

क्या चाहती है शिवसेना-

दरअसल जकात के रुप में बीएमस को मोटी कमाई होती है। शिवसेना को लग रहा है कि जीएसटी की आड़ में केंद्र और राज्य सरकार दोनों मिलकर बीएमसी की ताकत कम करना चाहते हैं। इसलिए उद्धव ठाकरे चाहते हैं कि जकात की जगह केंद्र सरकार से जो सहायता राशि मिलेगी वो सीधे बीएमसी के खाते में जाए ना की राज्य सरकार के।

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Loading Comments