SHARE

इस बार बीजेपी की 350 से लेकर 400 सीट तक आएगी। इस बार का चुनाव  वादों का नहीं बल्कि इरादों का चुनाव है। इस चुनाव में एनडीए 2014 से भी बेहतर प्रदर्शन करेगी। देश का यूथ 1947 की तरफ नहीं, 2047 की तरफ देखता है, जब भारत आज़ादी के 100 वर्ष मनाएगा। जिन दलों, जिन नेताओं की सोच पिछली सदी की है, वो 21वीं सदी के युवा की नब्ज नहीं समझ सकते हैं। यह वाक्य कहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने, जो लोकसभा चुनाव के प्रचार के लिए मुंबई में थे। मोदी बीकेसी के MMRDA ग्राउंड में आयोजित सभा के द्वारा लोगों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव ठाकरे और आरपीआई (आठवले) के अध्यक्ष रामदास आठवले सहित तमाम बीजेपी और शिवसेना केपदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अब कांग्रेस कन्फ्यूजन का दूसरा नाम हो गई है क्योंकि 2014 में जो चुनाव हुआ, उसमें आजादी के बाद हुए सभी चुनावों में कांग्रेस को सबसे कम सीटें मिली हैं। 2019 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी सबसे कम सीटों पर लड़ रही है। यानी 2014 सबसे कम सीटें जीतने का रिकॉर्ड और 2019 सबसे कम सीटों पर लड़ने का रिकॉर्ड, कांग्रेस की पूरी राजनीति और रणनीति अतीत की यादों पर टिकी हुई है।

मोदी ने आगे कहा कि महात्मा गांधी ने कहा था कि कांग्रेस को समाप्त कर देना चाहिए। उस पार्टी को लेकर देश में सारे सर्वे में ये चर्चा है की इस चुनाव में कांग्रेस 44 का आंकड़ां पार करके 50 पर पहुंचेगी या नीचे ही निपट जाएगी। आप जितने भी सर्वे देखेंगे, गांव-देहात हो या मुंबई जैसी मायानगरी। जबकि बीजेपी 350 से लेकर 400 तक पहुंचेगी। भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है।

मुंबई पुलिस की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि, बहुत कम लोगों को मालुम होगा की हमारे देश में लोगों की सेवा करते करते 33 हजार पुलिस के जवानों ने अपनी शाहदत दी है। लेकिन कांग्रेस ने कभी उनके मान सम्मान की परवाह नहीं की। हमारे पुलिस बल मांग करते रहे लेकिन उनकी नहीं सुनी गयी। 

उन्होंने आगे कहा कि  ये चुनाव सिर्फ एक सरकार चुनने के लिए नहीं है, ये भारत की दिशा तय करने का चुनाव है। ये विकल्प का चुनाव नहीं, संकल्प का चुनाव है। ये वादों का नहीं, ये इरादों का चुनाव है. हमारी संस्कृति और हमारा सामर्थ्य ही तो हमारी शक्ति है। जिसके दम पर हम विश्व की अहम ताकत बनने की बात करते हैं।

आपको बता दें कि पीएम मोदी के संबोधन में एक ही मंच पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी पांच साल बाद उपस्थित थे। इसके पहले साल 2014 में लोकसभा चुनावों से ठीक पहले दोनों नेताओं ने बीकेसी में संयुक्त रैली को संबोधित किया था।

गौरतलब है कि आगामी 29 अप्रैल को मुंबई की सभी छह सीटों मुंबई नॉर्थ, मुंबई नॉर्थ वेस्ट, मुंबई नॉर्थ-सेंट्रल, मुंबई नॉर्थ इस्ट, मुंबई साउथ एवं मुंबई साउथ-सेंट्रल पर मतदान होन है। 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें