Advertisement

हमारा हिंदुत्व शुध्द है क्योंकि यह बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व है- उद्धव ठाकरे

जब से शिव सेना ने जब से महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिल कर सरकार का गठन किया है तभी से ही उस पर सॉफ्ट हिंदुत्व अपनाने का आरोप लगते रहे हैं।

हमारा हिंदुत्व शुध्द है क्योंकि यह बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व है- उद्धव ठाकरे
SHARES


महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (maharashtra CM uddhav thackeray) ने रविवार को राज ठाकरे (raj thackeray) पर तंज कसते हुए कहा कि, शिव सेना (shiv sena) को अपना हिंदुत्व साबित करने के लिए अपना झंडा बदलने की जरूरत नहीं है, क्योंकि उनका हिंदुत्व शुध्द है क्योंकि यह बालासाहेब ठाकरे (balasahab thackeray)का हिंदुत्व है। रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) ने अपनी देश में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों और पाकिस्तानियों के खिलाफ एक रैली निकाली थी, पहले परप्रांती को लेकर राजनीति करने वाली मनसे अब हिंदुत्व (Hindutv) को अपनी राजनीति का आधार बना रही है।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में पार्टी विधायकों और जिला अध्यक्षों एक साथ एक बैठक की। इस बैठक में बोलते हुए उद्धव ने कहा, मुझे अपने हिंदुत्व को साबित नहीं करना है। यह दिवंगत बालासाहेब ठाकरे का हिंदुत्व है। यह शुद्ध है। मैंने अपनी पार्टी का झंडा नहीं बदला है। एक आदमी और एक झंडा तय किया जाता है। दुनिया जानती है कि हिंदुत्व क्या है।  यही नहीं उद्धव ठाकरे ने बीजेपी को केवल हिंदुत्व का परचम लेकर चलने वाली पार्टी बताया।

पढ़ें: आज़ाद मैदान में गरजे राज ठाकरे, रैली में लगे जय श्री राम के नारे

गौरलतब है कि राज ठाकरे ने 23 जनवरी को अपने अधिवेशन में भगवा झंडा लॉन्च किया कर पार्टी में हिंदुत्व विचारधारा की नींव रखी।

यही नहीं जब से शिव सेना ने जब से महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिल कर सरकार का गठन किया है तभी से ही उस पर सॉफ्ट हिंदुत्व अपनाने का आरोप लगते रहे हैं।

इसके बाद मनसे भी राजनीति की खेती में हिंदुत्व के बीज बोने में लग गयी है लोगों का यहां तक कहना कि मनसे को बीजेपी का भी समर्थन प्राप्त है।

गौरतलब है कि रविवार को मुंबई में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने एक रैली निकाली। यह रैली भारत में रह रहे पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों को देश से बेदखल करने को लेकर थी. यह रैली हिंदू जिमखाना से लेकर आजाद मैदान तक निकाली गयी थी।

अपने संबोधन में राज ठाकरे ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के लिए अपना समर्थन देने की भी बात कही।

पढ़ें: ‘मनसे' की महारैली आज, बदलेगा राजनीति का रंग?

Read this story in English
संबंधित विषय
Advertisement