Advertisement

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने केंद्र सरकार पर पक्षपातपूर्ण निधि आवंटन का आरोप लगाया

नाना पटोले ने आरोप लगाया की महाराष्ट्र को केवल 8,000 करोड़ रुपये मिले हैं, जबकि भाजपा या सहयोगी नेतृत्व वाले उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों को क्रमशः 25,000 करोड़ रुपये, 10,970 करोड़ रुपये और 14,000 करोड़ रुपये मिले हैं।

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले  ने केंद्र सरकार पर पक्षपातपूर्ण निधि आवंटन का आरोप लगाया
SHARES

महाराष्ट्र कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष नाना पटोले ने केंद्र सरकार की तीखी आलोचना की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि जीएसटी और अन्य करों के माध्यम से महाराष्ट्र के महत्वपूर्ण योगदान के बावजूद धन का अनुचित वितरण किया जा रहा है। पटोले के आरोपों ने विवाद को जन्म दिया है, जिससे राज्यों को निधि आवंटन में राजकोषीय समानता और पारदर्शिता पर बहस फिर से शुरू हो गई है। (Maharashtra Congress President Accuses Centre of Biased Fund Allocation)

पक्षपातपूर्ण निधि आवंटन पटोले ने नई एनडीए सरकार के गठन के बाद से निधि आवंटन में स्पष्ट असमानता को उजागर किया। उनके अनुसार, महाराष्ट्र को केवल 8,000 करोड़ रुपये मिले हैं, जबकि भाजपा या सहयोगी नेतृत्व वाले उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों को क्रमशः 25,000 करोड़ रुपये, 10,970 करोड़ रुपये और 14,000 करोड़ रुपये मिले हैं। पटोले ने तर्क दिया कि ये आंकड़े महाराष्ट्र की तुलना में भाजपा शासित राज्यों और उसके सहयोगियों के पक्ष में व्यवस्थित पूर्वाग्रह को दर्शाते हैं।

आलोचना और असमानताएं महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष ने निधि आवंटन में भेदभाव के स्पष्ट पैटर्न की आलोचना की। उन्होंने ऐसे उदाहरणों की ओर इशारा किया जहां विपक्षी दलों द्वारा शासित राज्यों को भी महाराष्ट्र से अधिक आवंटन प्राप्त हुआ। उदाहरण के लिए, कर्नाटक को 5,000 करोड़ रुपये और दिल्ली को 2,525 करोड़ रुपये मिले, जबकि एनडीए के सहयोगी आंध्र प्रदेश को 5,622 करोड़ रुपये मिले। पटोले ने जोर देकर कहा कि ये फंड सही मायने में करदाताओं के हैं और इन्हें महाराष्ट्र की विकास जरूरतों को पूरा करने के लिए समान रूप से वितरित किया जाना चाहिए।

जांच और जवाब की मांग

वित्तीय शिकायतों के अलावा, पटोले ने NEET-UG मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं के आसपास कथित भ्रष्टाचार की केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) द्वारा गहन जांच की मांग की। उन्होंने बढ़े हुए अंकों और प्रवेश को प्रभावित करने वाले भ्रष्ट आचरण की रिपोर्टों पर गंभीर चिंता व्यक्त की। पटोले ने इन मुद्दों को भाजपा द्वारा NEET की शुरूआत के लिए जिम्मेदार ठहराया, जिसके बारे में उन्होंने दावा किया कि इसने ट्यूशन फीस में वृद्धि के माध्यम से माता-पिता पर वित्तीय बोझ बढ़ा दिया है और आर्थिक रूप से वंचित छात्रों के लिए सरकारी कॉलेजों तक पहुंच में बाधा उत्पन्न की है।

नाना पटोले के आरोपों ने केंद्र की राजकोषीय नीतियों और राज्यों के बीच संसाधन वितरण के बारे में महत्वपूर्ण बहस और जांच को जन्म दिया है। जैसे-जैसे तनाव बढ़ता है, हितधारक केंद्र और महाराष्ट्र के राजनीतिक नेतृत्व दोनों से प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इन चर्चाओं के परिणाम संभवतः निधि आबंटन के संबंध में भविष्य की नीतियों और निर्णयों को प्रभावित करेंगे, तथा भारत में राज्य विकास और राजकोषीय समानता के लिए व्यापक निहितार्थों को रेखांकित करेंगे।

यह भी पढ़े-  मुलुंड- ड्राइवर ने नियंत्रण खो दिया, फुटपाथ पर चल रहे व्यक्ति को टक्कर मारी

Read this story in English
संबंधित विषय
Advertisement
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें