आरे को हमे बचाना है,सरकार छोड़े जिद्दीपन- पूर्व पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश

मंगलवार को जयराम रमेश ने आरे को मुंबई के लिए बेहद ही संवेदनशील जगह बताया, पर्यावरण के मुद्दे पर उन्होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा

SHARE

देश के पूर्व पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश भी मंगलवार को आरे का दौरा किया और राज्य सरकार पर आरे को लेकर जमकर निशाना साधा।  जयराम रमेश ने आरे को मुंबई के लिए बेहद महत्तवपूर्व जगह बताया।  जयराम रमेश के इस दौरे के साथ साथ संजय निरुपम भी शामिल थे।  प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए  जयराम रमेश ने कहा की " पर्यावरण की नजर से आरे एक बेहद ही संवेदनशील जगह है , इस जगह को हमे बचाकर रखना है, मुंबई में कई लोगों की निगाहें इस जगह पर है, मेट्रो प्रोजेक्ट एक छोटा प्रोजेक्ट नहीं है, से शुरुआत है दरवाजा खुलने का , पर्यावरण मंत्री रहते हुए मैने आरे को इको सेंशीटीव बनाने की बात कही थी,

उन्होने कहा की " शिवसेना से भले ही हमारी राजनीतिक लड़ाई हो लेकिन एक मामले में मै उनका साथ दूंगा और वह है पर्यावरण के मामले मे, पर्यावरण के मामले में उन्होने सामना में मेरा समर्थन किया था जब मैं पर्यावरण मंत्री था, लेकिन अब आरे मामले में बयानबाजी नहीं चलेगी, मैं शिवसेना से चाहुंगा की वह अपने सहयोगी दल को समझाएं की क्यों आरे में पेड़ काटने पर्यावरण के लिए सही नहीं है

पहले भी दे चुके है समर्थन 

राज्यसभा सदस्य रमेश ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस, मुंबई मेट्रो और शहरी निकाय अधिकारियों से मेट्रो कार शेड के लिए अन्य विकल्प तलाशने और उपनगर गोरेगांव की आरे कॉलोनी को संरक्षित करने की अपील की है, जिसे महानगर का प्रमुख हरित क्षेत्र कहते है।  

गौरतलब है कि बृहन्मुंबई महानगरपालिका के पेड़ प्राधिकार ने मेट्रो परियोजना के लिए आरे कॉलोनी में प्रस्तावित कार शेड के लिए 2,700 से अधिक पेड़ों को काटने की मंजूरी दी थी। इसके साथ ही कुछ दिनों पहले ही बीएमसी की ट्री ऑथोरिटी ने एमएमसीएल को 600 पेड़ काटने की इजाजत दे दी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें