Advertisement

नितीन गडकरी के बयान ने देवेंद्र फडणवीस को दिया राहत

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी शिवसेना के 50-50 फॉर्मूले को नकारते हुए कहा है कि बीजेपी और शिवसेना के बीच इस तरह की कोई बात नहीं हुई थी।

नितीन गडकरी के बयान ने देवेंद्र फडणवीस को दिया राहत
SHARES

महाराष्ट्र में मचे सियासी घमासान के बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी शिवसेना के 50-50 फॉर्मूले को नकारते हुए कहा है कि बीजेपी और शिवसेना के बीच इस तरह की कोई बात नहीं हुई थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पद साझा करने समेत विभागों के बराबर बंटवारे को लेकर उनकी पार्टी और शिवसेना के बीच कोई करार नहीं हुआ था। गडकरी के इस बयान से बीजेपी खासकर देवेंद्र फडणवीस को काफी राहत मिली होगी साथ ही शिवसेना के लिए किसी झटके से कम नहीं होगा।

क्या कहा गडकरी ने?

शुक्रवार को भाजपा के पूर्व अध्यक्ष ने नितिन गडकरी ने पहले कहा था कि वे महाराष्ट्र में शिवसेना और उनकी पार्टी के बीच जारी गतिरोध को खत्म करने के लिए हस्तक्षेप नहीं करेंगे, लेकिन अब उन्होंने कहा कि अगर उनके पहले करने से दोनों पार्टियों में गतिरोध समाप्त होता है तो इसमें उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। हालांकि उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “मेरी जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र में विभागों के बराबर बंटवारे को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच में कोई करार हुआ नहीं था।

उन्होंने आगे कहा, दिवंगत बालासाहेब ठाकरे ने भी शिवसेना-भाजपा के बीच इस व्यवस्था पर जोर दिया था कि जिस पार्टी के निर्वाचित विधायकों की संख्या ज्यादा होगी, वह मुख्यमंत्री पद के लिए दावा करने की पात्र होगी।

विधायकों के खरीद-फरोख्त पर नितिन गडकरी ने कहा कि ये आरोप बेबुनियाद है। हम कभी भी विधायकों की खरीद-फरोख्त के पक्ष में नहीं है। हम तैयार हैं, शिवसेना को सकारात्मक सोचना चाहिए। महाराष्ट्र की जनता के हित में फैसला लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार बनाने में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) या मोहन भागवत की कोई भूमिका नहीं है।

अब गडकरी की ओर से भी आया यह बयान शिवसेना और बीजेपी के बीच की तल्खियां और बढ़ा सकता है। 

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
Advertisement