Advertisement

'कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़ों को छुपा रही है महाराष्ट्र सरकार', BJP ने लगाया आरोप

भाजपा विधायक और वसई-विरार के प्रभारी प्रसाद लाड ने भी इस मुद्दे पर मनपा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, वसई-विरार नगर निगम का कुप्रबंधन और भ्रष्टाचार एक बार फिर लोगों के सामने आ गया है।

'कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़ों को छुपा रही है महाराष्ट्र सरकार', BJP ने लगाया आरोप
SHARES

भाजपा (bjp) ने महाराष्ट्र सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। भाजपा का कहना है कि, कोरोना (covid19) से होने वाली मौत के आंकड़ें को सरकार की तरफ छुपाया जा रहा है। भाजपा ने आगे कहा, वसई-विरार और ठाणे में, पिछले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमण से जितने रोगियों की मौत हुई है, उसकी तुलना में मौतों की संख्या कम दर्ज की गई है।

भाजपा नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया (kirit somaiya) ने यह दावा कर ठाकरे सरकार पर निशाना साधा है।

सोमौया ने ट्वीटर के माध्यम से कहा कि, 1 अप्रैल से लेकर 13 अप्रैल के बीच वसई-विरार शहर में कोरोना में 201 मरीजों की मौत हुई। लेकिन वहां के स्थानीय निकाय ने मात्र 23 मौतों का आंकड़ा ही पेश किया। जबकि ठाणे नगर निगम क्षेत्र में 57 कोरोना मरीजों की मौत हुई हैं, जबकि कब्रिस्तान में 309 लोगों का अंतिम संस्कार किये जाने का रिकॉर्ड है।

किरीट सोमैया ने आगे कहा कि, वसई-विरार शहर में पहले 13 दिनों में कोरोना के कारण 201 रोगियों की मृत्यु हुई। लेकिन नगरपालिका ने 23 मौतें ही दिखाई। जब हमने म्यूनिसिपल कमिश्नर से इस बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि, हमने निजी अस्पताल में हुई मौतों के आंकड़े को नहीं ऐड किया था, हम इसे सुधारेंगे।

ठाणे नगर निगम (tmc) के कब्रिस्तानों में 309 लोगों के अंतिम संस्कार होने का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है, जबकि केवल 57 कोरोना मौतें हुई दर्ज की गई है। इससे, यह समझ में आता है कि ठाकरे सरकार मौतों के आंकड़ें को छुपा रही है।


भाजपा विधायक और वसई-विरार के प्रभारी प्रसाद लाड (prasad lad) ने भी इस मुद्दे पर मनपा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, वसई-विरार नगर निगम (vvmc) का कुप्रबंधन और भ्रष्टाचार एक बार फिर लोगों के सामने आ गया है। हम नहीं समझ पा रहे हैं कि, आयुक्त और प्रशासक गंगाधरन, ये आयुक्त हैं या पालक मंत्री का काम करने के लिए हैं। आयुक्त महोदय, जब कोरोना से 207 से अधिक लोगों की मौतों हुई है तो केवल 23 मौतें ही बता रहे हैं।

लाड ने आगे कहा, पिछले कुछ दिनों में वसई-विरार के नालासोपारा में ऑक्सीजन की कमी से कम से कम 23 से 24 लोगों की मौत हो गई है। ऐसी स्थिति में, जब आयुक्त से संपर्क करने का प्रयास किया जाता है, तो आयुक्त की ओर से कोई जवाब नहीं आता है। मैं सरकार से आग्रह करता हूं कि कोरोना अवधि के दौरान भी राजनीति न करें। मैं ठाणे के पालक मंत्री एकनाथ शिंदे (eknath shinde) से अनुरोध करता हूं कि वे नगर निगम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की जांच करें, रेमेडिसवीर की कमी और लोगों की सेवा के लिए काम करने के लिए कमिश्नर गंगाधरन को कड़ी चेतावनी दें, नहीं तो हमें ब्रेक द चैन परिस्थिति के तहत आंदोलन करके ब्रेक द ब्रेन करना पड़ेगा।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें