CAB: शिवसेना ने किया वॉक आउट, कांग्रेस ने दी चेतावनी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने उद्धव ठाकरे से बात की है चेतावनी देते हुए कहा कि नागरिकता बिल जैसे मुद्दों पर पार्टी का स्टैंड भविष्य में गठबंधन को नुकसान पहुंचा सकता है।

SHARE

राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पर शिव सेना ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लेते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया था, जिसके बाद बहुमत का आंकड़ा कम हो गया और बीजेपी ने आसानी से इस बिल को पास करा लिया लेकिन इसके बाद शिवसेना के इस स्टैंड से कांग्रेस हाइकमान नाराज हो गया है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने उद्धव ठाकरे से बात की है चेतावनी देते हुए कहा कि नागरिकता बिल जैसे मुद्दों पर पार्टी का स्टैंड भविष्य में गठबंधन को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके पहले भी शिव सेना ने लोकसभा में इस बिल के समर्थन में वोट दिया था, जिसे लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपरोक्ष रूप से राजगी जताई थी।

राहुल ने किया था ट्वीट 
लोकसभा में इस बिल के पास होने के बाद राहुल गांधी ने नाराजगी जताते हुए ट्वीट किया था कि, 'नागरिकता संशोधन विधेयक भारतीय संविधान को चोट पहुंचानेवाला है। जो भी इसका समर्थन कर रहे हैं वह हमारे देश की नींव को चोट पहुंचाने का काम कर रहे हैं।'

CMP के खिलाफ कदम
सूत्रों के अनुसार कांग्रेस का अब कहना है कि शिवसेना ने राज्यसभा में वॉक आउट करके महाराष्ट्र में गठबंधन के लिए तय हुए कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP) के खिलाफ कदम उठाया है। कांग्रेस ने आगे कहा कि, गठबंधन के सभी पार्टनरों को किसी भी मुद्दे पर फैसला लेने से पहले एक-दूसरे से चर्चा जरूर करना चाहिए।

शिव सेना से नाराज कांग्रेस 
इसके पहले लोकसभा में बिल के समर्थन में वोट देने पर भी कांग्रेस द्वारा निराशा जताने पर शिव सेना के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यू-टर्न लेते हुए कहा था कि, पार्टी राज्यसभा में बिल के खिलाफ सवाल उठाएगी और बिल में सभी लोगों के लिए प्रावधान करने पर ही विचार करेगी, लेकिन राज्यसभा से वॉक आउट करके शिव सेना ने कांग्रेस को और भी नाराज कर दिया

सरकार के लिए शुभ नहीं
महाराष्ट्र में शिव सेना ने सत्ता पक्ष के लिए बीजेपी को छोड़ कर कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन करके सरकार बनाई है इन तीनों पार्टियों की विचारधारा अलग होने के कारण एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाया गया, जिससे सरकार आसानी से चल सके। लेकिन जिस तरह से शिव सेना और कांग्रेस के बीच रिश्ते बन रहे हैं वह आने वाले समय में महाराष्ट्र सरकार के लिए शुभ नहीं हैं

बीजेपी और शिव सेना साथ-साथ 
इससे एक बार और भी सामने आती है कि क्या शिव सेना फिर से बीजेपी का साथ दे सकती है, क्योंकि शिव सेना के एक बड़े नेता भी कह चुके हैं कि बीजेपी और शिव सेना को साथ आना चाहिए, और बीजेपी की तरफ से कहा गया है कि, शिव सेना के लिए दरवाजे हमेशा खुले हैं 

पढ़ें: फिर साथ आ सकते हैं शिवसेना और बीजेपी- मनोहर जोशी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें