पीएम मोदी के खिलाफ राज ठाकरे के बयान पर रामदास आठवले ने संभाला मोर्चा

आठवले ने राज ठाकरे को बयान को बचकाना बताते हुए राज ठाकरे को सेना पर राजनीति नहीं करने की नसीहत दी।

SHARE

कोल्हापुर की एक जनसभा में एयर स्ट्राइक के जरिये पीएम मोदी और NSA अजित डोभाल पर सवाल उठाने वाले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख पर अब आरपीआई अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने निशाना साधा है। आठवले ने राज ठाकरे को बयान को बचकाना बताते हुए राज ठाकरे को सेना पर राजनीति नहीं करने की नसीहत दी।

क्या कहा रामदास आठवले ने?
उल्हासनगर में पत्रकारों से बात करते हुए रामदास आठवले ने कहा कि पुलवामा हमले के पीछे आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद का हाथ है, यह साबित हो चुका है। लेकिन राज ठाकरे जैसे नेता इस हमले के पीछे मोदी का हाथ होने की बात करते हैं। राज ठाकरे जैसे नेता का यह बचकाना बयान है. सेना के एयर स्ट्राइक पर किसी को राजनीती नहीं करनी चाहिए। 

उन्होंने यह भी कहा कि यह एयर स्ट्राइक किसी चुनावी उद्देश्य के लिए नहीं बल्कि पुलवामा हमले के लिए पाकिस्तान से बदला लेने के लिए किया गया था। 

राज ठाकरे ने क्या कहा था?
आपको बता दें कि राज ठाकरे ने 25 फरवरी को कोल्हापुर में एक जनसभा का आयोजन किया था। इस जनसभा में उन्होंने पुलवामा हमले का जिक्र करते हुए कहा था कि मोदी सरकार चुनाव से पहले या चुनाव के दौरान किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकती है, ताकि जनता का ध्यान राफेल की डील और नोटबंदी के दौरान बड़े पैमाने पर हुए भ्रष्टाचार से हट जाए।

यही नहीं उन्होंने यह भी कहा था कि पुलवामा में सीआरपीएफ के जिन 40 जवानों की जान गई, उनकी राजनीतिक बलि ली गई है। अगर NSA अजित डोभाल की सही तरीके से जांच कराई गई तो सब सामने आ जाएगा कि यह क्या मामला था और वास्तव में क्या घटित हुआ है?

आठवले के सुर बदले हुए!
अभी हाल तक सीट बंटवारे को लेकर बीजेपी के खिलाफ खुल कर बोलने वाले रामदास आठवले के सुर अचानक बदले हुए हैं। बीजेपी के खिलाफ बोलने पर जिस तरह से आठवले ने मोर्चा संभाला, इससे यही कयास लगाए जा सकते हैं कि आरपीआई और बीजेपी की 'सेटिंग' हो गयी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें