ये क्या गोलमाल भाई...?

मुंबई - देश की आर्थिक राजधानी और सबसे धनी बीएमसी के चुनाव में अमूमन काफी कम मतदान होता रहा है, लेकिन इस बार मतदान के उत्साहजनक आंकड़े देखने को मिले। यह आंकड़ा और भी बढ़ जाता, लेकिन इस बार बड़ी संख्या में मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में नहीं थे। जिसके चलते लाखों मतदाता अपने अधिकार का प्रयोग करने से चूक गए। शिवसेना नगरसेविका किशोरी पेडणेकर ने जानबूझकर मतदाता सूची से नाम गायब करने का आरोप लगाया है। किशोरी पेडणेकर ने मतदाता सूची में गोलमाल करने की बात भी कही है।

वहीं राज्य के चुनाव आयुक्त जे.एस.सहारिया ने मतदाता सूची में किसी भी प्रकार के गोलमाल से इनकार किया है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर मुंबई के 12 लाख मतदाताओं के नाम सूची से गायब आखिर कैसे हुए।

Loading Comments