अनुभवी नगरसेवक अध्यक्ष पदों से दूर

 BMC
अनुभवी नगरसेवक अध्यक्ष पदों से दूर

मुंबई - मुंबई के महापौर पद पर विराजमान रहे पूर्व महापौर को शिवसेना द्वारा काफी आगे रखा जा रहा है। वरिष्ठ नगरसेवकों के अनुभवों का लाभ उठाने की जबाय शिवसेना ने पूर्व महापौर विशाखा राऊत को स्थापत्य समिती (शहर) और पूर्व महापौर मिलिंद वैद्य को जी/उत्तर प्रभाग समिती आदि विशेष समितियों के अध्यक्ष पद के लिए चुना है।

बीएमसी स्थापत्य समिति (शहर), स्थापत्य समिति (उपनगर), आरोग्य समिति, बाजार और उद्यान समिति, कानून समिति, महिला और बाल कल्याण समिति आदि विशेष समितियों के अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवारी फॉर्म भरे गए थे। स्थापत्य समिति (शहर) अध्यक्ष पद के लिए पूर्व महापौर विशाखा राऊत ने शिवसेना की तरफ से उम्मीदवारी दर्ज की थी। तो वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए अमेय घोले ने शिवसेना की तरफ से उम्मीदवारी दर्ज की थी। स्थापत्य समिति (उपनगर) अध्यक्ष पद के लिए तुलशीराम शिंदे वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए विधी प्रमोद शिंदे ने उम्मीदवारी दाखिल की थी।

आरोग्य समिति के अध्यक्ष पद के लिए रोहिणी कांबले और उपाध्यक्ष पद के लिए समाधान सरवणकर, वहीं बाजार व उद्यान समिति के अध्यक्ष पद के लिए सान्वी विजय पाटील वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए गीता सिंघण, कानून समिति अध्यक्ष पद के लिए सुहास चंद्रकांत वाडकर, उपाध्यक्ष पद के लिए चंद्रावती मोरे और महिला व बालकल्याण समिति के अध्यक्ष पद के लिए सिंधु मसुरकर और उपाध्यक्ष पद के लिए थेवर मरिअम्मा ने फॉर्म भरा था। सोमवार को ये उम्मीदवारी फॉर्म महापालिका सचिव नारायण पठाडे को सौंपे गए।

विशेष समिति के अध्यक्ष पद के लिए विशाखा राऊत को सबसे पहले नगरसेवकों में से चुना गया। जबकि दूसरे अनुभवी नगरसेवकों को अध्यक्षपद से दूर रखा गया है। पूर्व महापौर विशाखा राऊत समेत मिलिंद वैद्य को प्रभाग समिति जैसे विशेष समिति के अध्यक्ष पदों की जिम्मेदारी दी गई है। शिवसेना ने एकतरह से पूर्व महापौर को उनकी जगह दिखाई है।




Loading Comments