Advertisement

पूजा चव्हाण आत्महत्या केस: राठौड़ का इस्तीफा अभी भी मुख्यमंत्री के पास?

चर्चा हो रही है कि, जिस तरह से संजय राठौड़ से इस्तीफा लिया गया, उसी तरह से एनसीपी नेता और सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे का इस्तीफा क्यों नहीं लिया गया।

पूजा चव्हाण आत्महत्या केस: राठौड़ का इस्तीफा अभी भी मुख्यमंत्री के पास?
SHARES

टिक टॉक स्टार पूजा चव्हाण के कथित आत्महत्या मामले (tik tok star pooja chavan suicide case) में नाम आने पर शिवसेना (shiv sena) नेता व महाराष्ट्र के वन मंत्री संजय राठौड़ (sanjay rathour) ने विपक्षी भाजपा (bjp) के दबाव में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (uddhav thackeray) को अपना इस्तीफा सौंप दिया। लेकिन इस्तीफा अभी तक राज्यपाल (governor) के पास नहीं पहुंचा है और राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि राठौड़ अभी भी तकनीकी रूप से मंत्री हैं।

पूजा चव्हाण के आत्महत्या मामले में एक ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद, भाजपा ने वन मंत्री संजय राठौर को घेरना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं, BJP ने कहा कि, जांच होने तक संजय राठौड़ के मंत्री पद पर बने रहने से जांच प्रभावित हो सकती है, इसलिए राठौड़ से तत्काल इस्तीफा लिया जाना चाहिए। भाजपा की इस मांग से संजय राठौर से इस्तीफा लेने की बात का दबाव ठाकरे सरकार पर और भी बढ़ गया।

आखिरकार, संजय राठौर ने 28 फरवरी को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया। उस समय उद्धव ठाकरे ने कहा था कि, "यह इस्तीफा मैंने फ्रेम करा कर रखने के लिए नहीं लिया है। इस मामले में उचित कार्रवाई होगी।" लेकिन बताया जा रहा है कि, संजय राठौड़ को इस्तीफा दिए दो से तीन दिन बीत चुके हैं, लेकिन उनका इस्तीफा अभी तक राज्यपाल को नहीं भेजा गया है। इसलिए, संजय राठौड़ अभी भी तकनीकी रूप से मंत्री हैं।

सूत्रों का कहना है कि, पूजा चव्हाण आत्महत्या मामले की जांच शुरू होने पर, मुख्यमंत्री कम से कम एक महीने के लिए यह इस्तीफा अपने पास रख सकते हैं या राठौर को दूसरा मंत्री पद दिया जा सकता है।

खबर यह भी है कि, संजय राठौर ने पार्टी की छवि को धूमिल होने से बचाने के लिए इस्तीफा दिया था, लेकिन शिवसेना के कुछ नेता उनके इस्तीफे से नाखुश हैं। दबी जुबान से इस बात की भी चर्चा हो रही है कि, जिस तरह से संजय राठौड़ से इस्तीफा लिया गया, उसी तरह से एनसीपी नेता और सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे (dhananjay munde) का इस्तीफा क्यों नहीं लिया गया।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें