चुनाव जीतने के लिए फिर से हो सकता है पुलवामा जैसा हमला- राज ठाकरे

राज ठाकरे ने एयर स्ट्राइक, पुलवामा हमला,राफेल और अजित डोभाल सहित कई मुद्दों पर जम कर नरेंद्र मोदी को घेरने की कोशिश की। राज ठाकरे बांद्रा के रंगशारदा हॉल में लोगों को संबोधित कर रहे थे।

SHARE

शनिवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के 13वें स्थापना दिवस के मौके पर बोलते हुए राज ठाकरे ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। राज ठाकरे ने एयर स्ट्राइक, पुलवामा हमला,राफेल और अजित डोभाल सहित कई मुद्दों पर जम कर नरेंद्र मोदी को घेरने की कोशिश की। राज ठाकरे बांद्रा के रंगशारदा हॉल में लोगों को संबोधित कर रहे थे।

'फिर से हो सकता है पुलवामा जैसा हमला' 
राज ठाकरे ने मनसे के कार्यकर्ताओं और नेताओं को संबोधित किया। इस दौरान वे पूरी तरह से नरेंद्र मोदी पर ही हमलावर रहे। उन्होंने केंद्र सरकार पर सनसनीखेज सवाल उठाते हुए आशंका जाहिर कर कहा कि, चुनाव जितने के लिए आने वाले दो महीने में एक बार फिर से पुलवामा हमले जैसी घटना को अंजाम दिया जा सकता है। पुलवामा हमले के पहले सुरक्षा एजेंसियों ने पहले से ही चेतावनी दी थी तो फिर यह हमला कैसे हो गया? राज ने सवाल उठाया कि भारत के राष्ट्रिय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल क्या कर रहे थे?  

'डोभाल के बेटे का पार्टनर पाकिस्तानी' 
राज ठाकरे ने पीएम मोदी सहित NSA अजित डोभाल को भी कठघरे में खड़ा करते हुए सवाल किया। राज ने कहा कि अजित डोभाल की जांच की जानी चाहिए इसमें गलत क्या है? अजित डोभाल का बेटे की कंपनी में एक पार्टनर अरब का है तो दूसरा पाकिस्तान का है। पुलवामा हमला यह सुरक्षा एजेंसियों की गलती नहीं है, बल्कि CRPF के जवानों को एयरलिफ्ट करो यह पहले ही कहा गया था, इसके बाद भी यह हमला कैसे हुआ? भारत के सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल क्या कर रह थे? 

'डोभाल क्यों मिले थे पकिस्तान के सुरक्षा सलाहकार से?'
यही नहीं राज ठाकरे ने अजित डोभाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि 27 दिसंबर 2018 को अजित डोभाल और पकिस्तान के सुरक्षा सलाहकार की बैंकॉक में मुलाकात हुई थी, यह मुलाकात क्यों हुई थी, क्या हमें प्रश्न पूछने का कोई हक नहीं है? इस मुलाक़ात में क्या बात हुई थी यह देश को जानने का हक है।

'तो पाकिस्तान क्यों छोड़ता अभिनंदन को'
बीजेपी वाले झूठ बोलते हैं क्योंकि उन्हें चुनाव जितना है। वे एयर स्ट्राइक पर भी झूठा प्रचार कर रहे हैं। 200, 300 छोड़ो अगर 10 लोग भी मरे होते तो अभिनंदन की वापसी असंभव थी। अगर किसी देश का कोई नागरिक मरेगा तो वह हमारा आदमी छोड़ेगा क्या? 

'मुद्दा राफेल नहीं बल्कि भ्रष्टाचार है'
राफेल मुद्दे पर राज ठाकरे ने कहा कि हमारा मुद्दा राफेल पर नहीं बल्कि भ्रष्टाचार को लेकर है। प्रश्न यह है कि अनिल अंबानी को यह ठेका क्यों दिया गया? राफेल के कागजात चोरी हो जाते हैं, यह सब फ़िल्मों में देखने को मिलता था लेकिन अब यह सही में भी देखने को मिल रहा है।

'जो करूंगा सबके हित में करूंगा' 
इस मौके पर राज ठाकरे ने महाआघाड़ी में जाने की बात को लेकर कुछ भी नहीं कहा, लेकिन उन्होंने यहाँ जरुर कहा कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जो निर्णय लिया जाएगा वह आप सभी के, महाराष्ट्र के और देश के हित में होगा। यही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि आचार संहिता लगने पर हम एक बार फिर से मिलेंगे।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें