Advertisement

महिला यात्रियों के लिए 'स्पेशल' नहीं विद्या ठाकुर


SHARES

5 मई 1992 को चर्चगेट से बोरीवली के बीच पहली महिला स्पेशल ट्रेन चलाई गई थी। 5 मई 2017 को महिला स्पेशल ट्रेन के 25 साल पूरे हो गए। इस अवसर पर चर्चगेट स्टेशन पर ट्रेन का स्वागत किया गया। राज्य मंत्री विद्या ठाकुर ने भी इस स्वर्ण जयंती के दिन महिला यात्रियों के लिए यादगार बनाने के लिए अपनी उपस्थिति दर्ज कराई, लेकिन वह भूल गई कि उन्होंने इस ट्रेन में यात्रा कर महिला यात्रियों को पेश आ रही समस्या का पता करने का वादा किया है।

मंत्री विद्या ठाकुर ने ना तो इस ट्रेन में यात्रा की और ना ही उन्होंने महिलाओं की समस्या को सुना। उन्होंने सिर्फ स्टेशन पर 15 मिनट के अपने संक्षिप्त प्रवास में कुछ लोगों से मुलाकात की और बाहर चली गई। इस बीच मंत्री विद्या ठाकुर ने आश्वासन दिया गया कि जिस तरह से महिला यात्रियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है उसे देखते हुए महिलाओं के लिए और विशेष ट्रेनों शुरू कराने का प्रयास किया जाएगा।

यह भी पढ़ें -पहली लेडीज स्पेशल ट्रेन के शानदार 25 साल

महिलाओं यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रेलवे ने महिलाओं के लिए 5 मई, 1992 लोकल सेवा शुरू की थी। 5 मई, 1992 को पश्चिम रेलवे पर विश्व की पहली महिला विशेष ट्रेन को पूरे ज़ोर शोर से पहली बार रवाना किया गया था। वर्तमान में आठ महिला विशेष लोकल ट्रेन मुंबई में चलाए जा रहे हैं रेल प्रशासन ने 60 महिला डिब्बों में सीसीटीवी कैमरा लगाए हैं।

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय