Advertisement

कोरोना के कारण शिवनेरी में जानेवाले यात्रियों की संख्या में आई कमी, , केवल 10 से 15 प्रतिशत प्रतिक्रिया


कोरोना के कारण शिवनेरी में जानेवाले यात्रियों की संख्या में आई कमी, , केवल 10 से 15 प्रतिशत प्रतिक्रिया
SHARES

कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते प्रचलन के कारण बंद की गई परिवहन सेवा, मिशन स्टार्ट अगेन के तहत शुरू की गई थी। तदनुसार, आवश्यक सेवा कर्मियों के लिए  Local train को शुरू किया गया था। साथ ही, एसटी कॉर्पोरेशन की परिवहन सेवा आम जनता के लिए शुरू की गई थी। इस दौरान, यद्यपि मुंबई, ठाणे से पुणे मार्ग पर वातानुकूलित शिवनेरी सेवा, जो कि एसटी के बीच मार्ग की सबसे अधिक मांग थी, को बहाल कर दिया गया है, दोनों शहरों के नागरिकों ने कोरोना के डर से यात्रा नहीं करने का विकल्प चुना है।

10 से 15 प्रतिशत प्रतिक्रिया 

पिछले 20 दिनों में, सेवा को केवल 10 से 15 प्रतिशत प्रतिक्रिया मिली है। वर्तमान में, शिवनेरी को 44 के बजाय केवल 22 यात्रियों को ले जाने की अनुमति है। अधिकांश समय, शिवनेरी को मुंबई और ठाणे से आने-जाने के लिए कम यात्री मिलते हैं। 20 अगस्त को 100 यात्रियों ने शिवनेरी से यात्रा की थी। वही संख्या प्रति दिन केवल एक हजार से डेढ़ हजार तक पहुंच गई है। वर्तमान में, शिवनेरी से मुंबई तक पुणे रेलवे स्टेशन के लिए 31 दैनिक घाट हैं। उन्होंने बताया कि ठाणे से पुणे मार्ग पर 14 राउंड ट्रिप किए जा रहे हैं। दूसरी तरफ, पुणे से मुंबई और ठाणे आने वाली ट्रेनों को भी 10 से 15 फीसदी प्रतिक्रिया मिल रही है। वर्तमान में इन दोनों शहरों में कोरोना के मरीज हैं। इसलिए यात्रियों की प्रतिक्रिया कम है। 

पिछले साल जुलाई में शिवनेरी का किराया 80 रुपये से घटाकर 120 रुपये कर दिया गया था। इससे शिवनेरी का सफर सस्ता हो गया। किराया घटाने के कारण 2018 की तुलना में 2019 में शिवनेरी के दैनिक यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई है। यह संख्या 21,000 तक पहुंच गई। यह वृद्धि फरवरी 2020 तक जारी रही। बसों की संख्या भी बढ़कर 300 हो गई। 20 अगस्त को तालाबंदी शुरू हुई और ट्रेनों को शिवनेरी के साथ मुंबई, ठाणे से पुणे मार्ग पर रोकना शुरू कर दिया गया। लेकिन लग्जरी वाहनों की संख्या कम है। 

यह भी पढ़े'शरद पवार हर विषय पर बोलते हैं, लेकिन आरक्षण मुद्दे पर चुप क्यों'

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय