SHARE

एक मई से रेलवे टिकट पर स्टेशनों के नाम स्थानीय भाषा यानी मराठी में भी अंकित रहेंगे। स्थानीय भाषा को बढ़ावा देने के लिए रेलवे के साथ मिल कर केंद्र सरकार ने यह पहल की है। अभी तक मुंबई की लोकल टिकटों या पास पर स्टेशनों के नाम हिंदी या फिर अंग्रेजी में ही छपे होते थे।


लंबी दूरी की अनारक्षित टिकट भी शामिल 


मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुनील उदासी ने जानकारी देते हुए बताया कि केंद्र सरकार की नीति के तहत अब रेलवे की टिकटों पर स्टेशनों के नाम मराठी भाषा में अंकित रहेंगे। इस नीति पर रेलवे की क्रिस (centre for railway information system) ने काम भी शुरू कर दिया है। 1 मई यानि महाराष्ट्र दिवस से लंबी दूरी की गाड़ियों के अनारक्षित टिकटों पर स्टेशनों के नाम मराठी भाषा में रहेंगे।

टिकट छोड़ हर जगह तीनों भाषा 

लोकल ट्रेनों में जो उद्घोषणा की जाती थी वह तीनो भाषा हिंदी, इंग्लिश और मराठी में की जाती है। स्टेशनों के नाम भी तीनों भाषा में लिखे जाते हैं, लेकिन टिकटों पर स्टेशनों के नाम मात्र हिंदी और इंग्लिश में छपे होते थे। इसीलिए अब टिकटों पर भी हिंदी और इंग्लिश के अलावा मराठी भाषा में स्टेशनों के नाम छापे जाएंगे।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें