नहीं चाहीए मुफ्त बस सेवा ।

मुंबई - केंद्र सरकार के फैसलानुसार नेत्रहीन व्यक्तियों को बेस्ट बस में मुफ्त में यात्रा करने दिया जाता है । बेस्ट के सालाना आमदनी में घाटे के बाद भी बेस्ट ने ये सेवा बंद नहीं की है । जिसे देखते हुए बीएमसी ने बेस्ट को 1 करोड़ रुपये की सहायत देने का फैसला किया है। जिसपर नेत्रहीनों ने आपत्ति जताते हुए मुफ्त में यात्रा करने की बात का विरोध किया है। निकेत म्हात्रे,तुषार कांबले नाम के नेत्रहीन छात्रों ने इसका विरोध करते हुए बेस्ट से यात्रा करने पर नेत्रहीनों से पैसे लेने की मांग की है । तो वही नयन फाउंडेशन के संचालक पुण्यनगर देवेंद्र ने भी इस मांग का समर्थन किया है ।

Loading Comments