'गड्ढे' के पैसे नहीं दे रही हैं BMC, अभियंताओं में भी नाराजगी

इस योजना को लेकर अभियंताओं में नाराजगी है। उनका कहना है कि इस बाबत उन्हें अभी तक पूरी जानकारी नहीं दी गयी है, साथ ही अगर कोई शिकायत रविवार को दर्ज होती है तो गड्ढे कैसे भरे जाएंगे क्योंकि उस दिन तो अधिकांश कर्मचारी छुट्टी पर होते हैं।

SHARE


बीएमसी द्वारा शुरू किये गए मुंबई की सड़कों पर 'गड्ढा दिखाओ 500 रुपए पाओ' को लोगों का अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। इस योजना के शुरू होने के बाद से ही बीएमसी के ऐप पर 1 हजार से अधिक शिकायतें तत्काल दर्ज हो गयीं। पहले तीन दिनों में दर्ज लगभग 900 शिकायतों में से 800 गड्ढों को ही बीएमसी 24 घंटे के अंदर भर पाई बाकी के गड्ढे भरने में बीएमसी असफल रही। अब लोग इनाम पाने के लिए बीएमसी से सवाल पूछ रहे हैं। इस बारे में बीएमसी का कहना है कि संबंधित वॉर्ड अधिकारी ही अपनी जेब से इस इनाम राशि को देंगे। 

क्या है योजना?

बीएमसी ने 1 नवंबर से गड्ढों की शिकायत दर्ज कराने के लिए एक योजना शुरू की थी। योजना के मुताबिक़ मुंबई की सड़कों पर 'गड्ढे दिखाओ और 500 रुपया पाओ'। जिसकी शर्त थी कि अगर शिकायतकर्ता गड्ढा दिखाता है और वह गड्ढा 24 घंटे के अंदर नहीं भरे जाते हैं तो शिकायतकर्ता को 500 रुपए इनाम में मिलेंगे। इस योजना के अनुसार अगर किसी इलाके में समय से गड्ढा नहीं भरा जाता है तो संबंधित वॉर्ड अधिकारी को ही अपनी जेब से इनामी राशि चुकानी पड़ेगी। इसके लिए बीएमसी ने बाकायदा एक ऐप भी जारी किया था।

पढ़ें: 'गड्ढे दिखाओ 500 रुपए ईनाम में जीतो', BMC ने शुरू की योजना

नहीं भरे ज रहे हैं गड्ढे
इस योजना के शुरू होने के बाद ही 2 नवंबर तक 695 शिकायतें ऐप पर दर्ज हो चुकी थीं। जिसमें से मात्र 340 गड्ढे ही भरे गए। शिकायतकर्ताओं का कहना है कि कई गड्ढे अभी भी ऐसे हैं जिनकी शिकायत करें 48 घंटे से अधिक बीत चुके हैं लेकिन उन्हें नहीं भरा गया है।

पॉटहोल वॉरियर्स नामकी संस्था चलाने वाले मुश्ताक अंसारी का कहना है कि, उन्होंने खुद 1 तारीख को पांच गड्ढों की शिकायत की थी जिसमें से मात्र 2 गड्ढों को ही भरा गया।

अभियंता भी नाराज
जबकि इस योजना को लेकर अभियंताओं में नाराजगी है। उनका कहना है कि इस बाबत उन्हें अभी तक पूरी जानकारी नहीं दी गयी है, साथ ही अगर कोई शिकायत रविवार को दर्ज होती है तो गड्ढे कैसे भरे जाएंगे क्योंकि उस दिन तो अधिकांश कर्मचारी छुट्टी पर होते हैं।  एक और अधिकारी का कहना है कि प्रशासन की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार यह योजना केवल 7 नवंबर तक ही है, इसके बाद गड्ढों को भर दिया जायेगा।

पढ़ें: खबर काम की: सडकों पर दिखे गड्ढा, तो अपने वॉर्ड के इन वॉट्सऐप नंबर पर कीजिये शिकायत

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें