राज्य में 4 हजार मतदान केंद्र बढ़े

अभी भी नए मतदाता पंजीकृत हो रही है इसीलिए मतदान केंद्रों में भीड़ न लगे इसीलिए और मतदान केंद्र बनाए जा रहे हैं ताकि भीड़ को बांट कर संभाला जा सके।

SHARE

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए राज्य में लगभग 4,000 नए मतदान केंद्र बनाए गए हैं। लेकिन मतदाताओं के नाम अभी और भी रजिस्टर्ड हो रहे हैं इसीलिए मतदान केंद्र और भी बढ़ सकते हैं। साल 2004 के लोकसभा चुनाव के लिए जहां 64,508 मतदान केंद्र बनाए गए थे तो वहीं 2009 में कुल 83,986 मतदान केंद्र बनाए गए थे।

जबकि साल 2014 में कुल 91,169 मतदाता केंद्र स्थापित किए गए थे। इस बार के चुनाव में 95 हजार 433 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। जिसमें ग्रामीण भागों में 55 हजार 814 तो शहरी क्षेत्रों में 39,659 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। अभी इन मतदाता केंद्रों में और वृद्धि की संभावना जताई जा रही है क्योंकि अभी भी नए मतदाता पंजीकृत हो रही है इसीलिए मतदान केंद्रों में भीड़ न लगे इसीलिए और मतदान केंद्र बनाए जा रहे हैं ताकि भीड़ को बांट कर संभाला जा सके।

केंद्रीय चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रत्येक मतदान केंद्र में न्यूनतम 8 प्रकार की मूलभूत सुविधाएं होन अनिवार्य हैं। इसमें वृद्धों के आने-जाने के लिए रैंप, पेयजल, शौचालय, बिजली की आपूर्ति, प्रकाश की समुचित व्यवस्था, दिव्यांगों के लिए पहिए वाली कुर्सी कर फर्नीचर जैसी शर्तें  शामिल हैं। सुदूर क्षेत्रों के बने मतदान केंद्रों पर भी विशेष ध्यान रखा जाएगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें