26 वर्षीय महिला ने ऑटो रिक्शा में दिया बच्चे को जन्म

गौड़, जो जौनपुर में अपने पति के साथ रहती है, पिछले साल अगस्त में मालवनी में अपने माता-पिता के घर आई थी।

SHARE

मुंबई में ट्रैफिक की हालत कितनी खस्ता है ये तो हम सभी को पता है। लेकिन यही ट्रैफिक किसी महीला के लिए कितना पिड़ादायक हो सकता है , इसकी शायद हमने कभी कल्पना भी नहीं की होगी।   26 वर्षीय ज्योति गौड को ऑटो-रिक्शा में अपने बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर किया गया।   बड़े पैमाने पर ट्रैफिक जाम के कारण अस्पताल ना जाने के कारण ज्योति ने ऑटो रिक्शा में एक बच्चे को जन्म दिया।


क्या है इच्छा मृत्यु और किन देशों में है मान्य, जानिए यहां



शविवार की शाम अचानक ज्योती को दर्द होने लगा , उसे अस्पताल ले जाने के लिए रिक्शा में बैठाया गया। अस्पताल  मालवणी से केवल 1 किमी दूरी पर था , लेकिन उसे वहां पहुंचने में  1.45 घंटे लग गये।  ट्रैफिक में फंसने की वजह से ज्योति ने रिक्शा में ही बच्चे को जन्म दे दिया।   


LGBT पर दिये फैसले पर फिर से विचार करेगा सुप्रीम कोर्ट !



गौड़, जो जौनपुर में अपने पति के साथ रहती है, पिछले साल अगस्त में मालवनी में अपने माता-पिता के घर आई थी।  अस्पताल पहुंचने पर, डॉक्टरों ने बाकी के कार्य पूरे किये।  परिवार ने पुष्टि की कि दोनों माता और नवजात शिशु सुरक्षित हैं अब उन्हें बच्चे के साथ सामान्य वार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें