मुंबई को मिलेगी एनडीआरएफ की तर्ज पर नई टीम

 Mumbai
मुंबई को मिलेगी एनडीआरएफ की तर्ज पर नई टीम

मुंबई - बीएमसी अब आपातकालीन आपदा से निपटने के लिए खुद के जवानों की एक फौज तैयार करेगी। एनडीआरएफ की जगह अब बीएमसी खुद के सुरक्षा बलों को एनडीआरएफ की तरह की ट्रेनिंग देगी। कई बार एनडीआरएफ के जवानों को बाहरी शहर या राज्य की भौगोलिक जानकारी नहीं होती है, जिससे उन्हें स्थिति पर काबू पाने के लिए काफी समय लगता है। बीएमसी 200 जवानों को एनडीआरएफ की तर्ज पर ट्रेनिंग देगी और आवश्यकता पड़ने पर उन्हें सेवा के लिए इस्तेमाल भी किया जाएगा। 24 प्रभागों से जवानों की नियुक्ति की जाएगी।

मुंबईकरों को कई बार प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ा है। बीएमसी ने 1999 में आपत्ति व्यवस्थापन कक्ष की स्थापना की थी। अब बीएमसी शहर आपत्ति व्यवस्थापन पथक यानि ‘सीडीआरएफ’ की स्थापना करने जा रही है। इस पथक में बीएमसी के 200 जवानों का समावेश होगा। इन सारे जवानों को सेना औऱ एनडीआरएफ के जवानों की तरह ही ट्रेनिग दी जाएगी। इस ट्रेनिंग में रासायनिक, जैविक, अणु नैसर्गिक, आण्विक आपत्ति, मेडिकल, फर्स्ट एड, ऊंची इमारतों से लोगों को बचाने जैसी कई ट्रेनिंग का समावेश होगा।

‘एनडीआरएफ’ की तर्जपर खास मुंबई के लिए स्थापित होनेवाले इस पथक के बाद मुंबई देश का पहला शहर होगा जिसके पास अपना खुद का ‘शहर आपत्ति व्यवस्थापन पथक’ होगा।

‘शहर आपत्ति व्यवस्थापन पथक’ बीएमसी के अतिरिक्त आयुक्त (आपाात्कालीन व्यवस्थापन) के नियंत्रण में होगा। आवश्यकता ना होने पर ये सारे 200 जवान बीएमसी के सुरक्षा कर्मियो की तरह कार्य करेंगे , लेकिन आपातकालीन स्थिति में इन्हें सेवा के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

Loading Comments