Advertisement

भीड़ और कोरोना से बचने के लिए पश्चिम रेलवे ने अपने ऑफिस टाइमिंग में किया बदलाव

कोरोना (Coronavirus) और लोकल ट्रेनों (local train) में भीड़ से बचने के लिए पश्चिम रेलवे (western railway) ने अपने ऑफिस कर्मचारियों के ड्यूटी टाइमिंग (duty timing) में बदलाव किया है।

भीड़ और कोरोना से बचने के लिए पश्चिम रेलवे ने अपने ऑफिस टाइमिंग में किया बदलाव
SHARES

कोरोना (Coronavirus) और लोकल ट्रेनों (local train) में भीड़ से बचने के लिए पश्चिम रेलवे (western railway) ने अपने ऑफिस कर्मचारियों के ड्यूटी टाइमिंग (duty timing) में बदलाव किया है।

ऐसा करने वाला पश्चिम रेलवे, पहला सरकारी संगठन बन गया हैै। यह नया टाइमिंग शेड्यूल आज यानी सोमवार से शुरू होगा।

मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय द्वारा जारी नोट के अनुसार, कर्मचारियों को दो शिफ्टों में काम करना है। पहली शिफ्ट सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक और दूसरी शिफ्ट दोपहर 2 बजे से लेकर रात 8 बजे तक शुरू होनी है।

इसके अलावा, पश्चिम रेलवे ने विरार (virar) और सांताक्रूज़ (santacruz) में नए कार्यालय स्थानों की शुरुआत की है, ताकि पश्चिम रेलवे (western railway) के मुंबई डिवीजन (mumbai division) में काम करने वाले कर्मचारी मुंबई सेंट्रल (mumbai central) जैसे दूर की यात्रा करने के बजाय निकटतम कार्यालय में आसानी से आ जा सकें।

दूसरी ओर, पश्चिम रेलवे ने 150 अतिरिक्त लोकल सेवाओं को चलाने का फैसला किया था। पहले, यात्रियों के लिए 350 लोकल सेवाएं शुरू की गई थीं, लेकिन यात्रियों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए और 350 लोकल सेवाओं को शुरू करने का फैसला किया गया है। इसके बाद अब कुल लोकल सेवाओं की संख्या बढ़कर 500 हो जाएगी।

इसके अलावा सोशल डिस्टेंस (social distance) को ध्यान में रखते हुए केवल 700 यात्रियों को ही ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति दी जा रही है।

गौरतलब है कि, तीन महीने के सख्त बंद के बाद, आवश्यक सेवाओं में लगे लोगों के लिए जून महीने में लोकल सेवाओं को फिर से शुरू किया गया। सूत्रों के अनुसार, लॉकडाउन (lock down) से पहले मुंबई के लोकल ट्रेनों में 1,200 या उससे अधिक लोग आसानी से यात्रा करते थे, लेकिन अब लॉकडाउन के मानदंडों के अनुसार, प्रत्येक ट्रेन पर केवल 600 से लेकर 700 यात्री ही यात्रा कर सकते हैं।

हालांकि अभी हाल ही में जिस तरह भीड़ से भरी लोकल ट्रेनों का वीडियो वायरल हुआ था, उससे रेलवे का यह दावा झूठा ही साबित हो रहा है।

Read this story in English
संबंधित विषय