महिला सफाईकर्मी ने चुराए लाखों रूपए, घटना सीसीटीवी में कैद

मुंबई के एक प्रिंटिंग प्रेस कंपनी में काम करने वाली बाई के द्वारा चुराए गये करीब तीन लाख रूपये की घटना सीसीटीवी में कैद हो गयी। लेकिन प्रिंटिंग प्रेस मालिक ने दया दिखाते हुए महिला को माफ़ कर दिया।

मुंबई में लोग अक्सर अपने घर और दफ्तर की साफ-सफाई के लिए बाई रखते हैं।और उन बाइयों पर इतना भरोसा करते हैं कि घर और दफ्तर की पूरी चाभी साफ सफाई के लिए उनको सौप देते हैं। लेकिन उसके बाद बाई आपका भरोसा कितना कायम रखती है, इस बात का खुलासा एक प्रिंटिंग प्रेस के दफ्तर में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई कुछ तस्वीरें करती हैं।

मालाड पश्चिम के कांच पाड़ा लिंक रोड पर स्थित एक प्रिंटिंग प्रेस के दफ्तर में प्रिंटिंग प्रेस के मालिक प्रकाश दोशी ने 11 अप्रैल को अपने स्टाफ को पेमेंट देने के लिए 3.50 लाख रुपया अलग-अलग लिफाफे में भरकर केबिन के ड्रावर में रखे थे।

उसके दूसरे दिन यानि 12 अप्रैल 2017 को सुबह 8 बजकर 25 मिनट पर हमेशा की तरह ऑफिस की साफ सफाई करने आई बाई ने पहले तो पूरी ऑफिस की सफाई की। उसके बाद प्रिंटिंग प्रेस के मालिक के केबिन के अंदर जाकर साफ सफाई करने लगी। उसी दौरान कपाट का ड्रावर खुला देख उसमे रखे 3.50 लाख रुपयों से भरे लिफाफे से पैसे निकालकर अपने कपडें में छुपा ली।लेकिन बाई इस बात से अनजान थी कि उसकी सारी करतूत ऑफिस में लगे सीसीटीवी में कैद हो चुकी है।


प्रिंटिंग प्रेस के मालिक प्रकाश दोशी ने बताया कि घटना के दिन 12 अप्रैल 2017 की सुबह के 10 बजे जब वह दफ्तर पहुंचे तो केबिन का कपाट खुला देख वह सन्न हो गये।

दोशी ने आगे बताया कि साढ़े तीन लाख रुपया ऑफिस स्टाफ को पेमेंट देने के लिए कपाट में रखकर बिना लॉक किये भूल कर चला गया था और जब दफ्तर आया तो पैसे गायब थे। उसके बाद दफ्तर में काम करने वालों से पूछा तो कोई भी ठीक से जबाब नहीं दे पाया। जब दफ्तर में लगे सीसीटीवी की जांच की गयी तो चोरी की सारी हकीकत सामने आ गयी।

प्रकाश दोशी ने बताया कि छोटे से दफ्तर की साफ-सफाई के लिए 2000 हजार रुपया हर महीना का बाई को देता हूँ । और दफ्तर स्टाफ के जैसा ही उसको भी मान सम्मान देता था। लेकिन उसके बाद भी बाई ने भरोसा तोड़ दिया।हालांकि दोषी ने मानवता का परिचय देते हुए पुलिस स्टेशन में इस बात की शिकायत नहीं की और उस बाई को माफ कर दिया।

लेकिन मुंबई लाइव इस खबर को प्राथमिकता इसलिए दे रहा है कि मुंबई में लगभग सभी लोग अपने दफ्तर और घर की साफ सफाई के लिए बाई रखते हैं। और उन पर काफी ज्यादा भरोसा करते हैं। ऐसे में सब सावधान हो जायें और अपने घर का कोई भी कीमती सामान व कपाट कभी भी खुले में नहीं छोड़े। नहीं तो जो घटना दोषी के साथ हुआ है वही घटना किसी के भी साथ हो सकती है।

Loading Comments