5 मार्च को शिक्षा कर्मचारियों की हड़ताल

इस हड़ताल में 1500 से अधिक महाविद्यालय के 22,000 से अधिक कर्मचारी शामिल हो सकते है

SHARE

अपनी अलग अलग मांगो को लेकर एक बार फिर से शिक्षा कर्मचारी राज्य में हड़ताल कर सकते है। शिक्षा विभाग द्वारा सुधारित आश्वासित प्रगति योजना रद्द करने से नाराज राज्य के शिक्षा कर्मचारियों ने 5 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। इस हड़ताल में 1500 से अधिक महाविद्यालय के 22,000 से अधिक कर्मचारी शामिल हो सकते है

इस हड़ताल का आयोजन महाविद्यालयीन शिक्षकेतर कर्मचारी संघठन की ओर से किया जा रहा है। संगठन का कहना है की नवंबर 2018 तक शिक्षाकर्मियों को आश्वासित प्रगति योजना के तहत वेतन मिल रहा था, किंतु 7 दिसंबर' 18 व 16 फरवरी 2019 को नया जीआर ला कर सरकार ने वर्षों पुरानी योजना को रद्द कर दिया है। संगठन का कहना है का इससे शिक्षकों की आमदनी पर असर पड़ेगा।


हड़ताल में महाविद्यालय के शिक्षकों को छोड़ प्यून, सफाई कर्मचारी, क्लर्क समेत सभी कर्मचारी शामिल हो रहे हैं।

संबंधित विषय