मुंबई विश्वविद्यालय अपने परिसर में शुरु करेगा 350 ग्रामवाचनालय

इस ग्रामवाचनालय में छोटे बच्चो के लिए मराठी और अंग्रेजी माध्यम की पुस्तके उपलब्ध होगी।

SHARE

राष्ट्रीय सेवा योजना के माध्यम से मुंबई विश्वविद्यालय अपने परिसर में 350 ग्रामवाचनालय शुरु करने जा रही है।  इस ग्रामवाचनालय में छोटे बच्चो के लिए मराठी और अंग्रेजी माध्यम की पुस्तके उपलब्ध होगी। इसके साथ ही कथासंग्रहआत्मचरित्र की पुस्तके भी छोटे बच्चो के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। इस सभी पुस्तको में एनएसएस द्वारा जमा किये गए पुस्तको का भी समावेश होगा। 

क्या है योजना

मुंबई विश्वविद्यालय से जुड़े 350 कॉलेजों में एनएसएस के छात्र है।  इस योजना का सफल बनाने के लिए हर एक कॉलेज से एक गांव में ग्रामवाचनालय की शुरुआत करने का फैसला किया है। इस योजना में अभी तक पालघर में 28, ठाणे जिला में 12, रत्नागिरी और सिंधुदूर्ग में 4-4ग्रामवाचनालय खोलने की जानकारी एनएसएस के संचालक प्रो. सुधीर पुराणिक ने दी है।

15 अगस्त 2019 को इस योजना की शुरुआत की गई थी। 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के 150वीं जयंती के मौके पर 350गावों में इस ग्रामवाचनालय को शुरु किया जाएगा।  मुंबई विश्वविद्यालय ने  बालशास्त्री जांभेकर के ज्नमगांव  सिंधुदुर्ग के पोम्भुर्ले गांव को गोद लेकर इस योजना की शुरुआत की है।  इस जगह पर विश्वविद्यालय ने 1400 से भी ज्यादा पुस्तके रखी है।

यह भी पढ़े- IIT-BOMBAY में फिर घुसी गाय, चबा डाली किताब 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें