वर्ली में भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री, दर्ज हुआ इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में

इसे सजाने के लिए 20 दिन लगते हैं.

  • वर्ली में भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री, दर्ज हुआ इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में
  • वर्ली में भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री, दर्ज हुआ इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में
  • वर्ली में भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री, दर्ज हुआ इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में
  • वर्ली में भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री, दर्ज हुआ इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में
SHARE

क्रिसमस में आपने नकली किसमस ट्री बने हुए तो बहुत देखे होंगे, ट्री को सजाने के लिए भी जो सामान लगते हैं वो भी प्लास्टिक के या फिर नकली बने होते हैं। लेकिन वर्ली में रहने वाले सलडाना परिवार ने तो कमाल ही कर दिया। इस परिवार ने जो किया उसे सुनकर आप भी चौंक जाएंगे। सलडाना परिवार के पास मुंबई ही नहीं बल्कि भारत का सबसे ऊंचा क्रिसमस ट्री है। यही नहीं इसे सजाने के लिए भी सलडाना परिवार ने जो सामान उपयोग किया है वो नकली नहीं बल्कि असली हैं। इनकी मेहनत रंग लायी और यह क्रिसमस ट्री 'इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड' में दर्ज  गया।

45 साल पुराना

वर्ली के आदर्श नगर सोसायटी में रहने वाले डगलस सलडाना अपने परिवार के साथ रहते हैं। यह परिवार हर साल क्रिसमस बड़े ही धूमधाम से मनाता है। डगलस ने अपने घर के बाहर लगभग 45 साल पहले क्रिसमस ट्री लगाया था, वह आज 60 या 65 फ़ीट ऊंचा हो गया है। डगलस और उनका परिवार क्रिसमस के अवसर पर इसे हर साल सजाते हैं। वे कहते हैं कि इसे सजाने के लिए 20 दिन लगते हैं, इस ट्री में 10 हजार ट्वींकल लाइट, छोटे छोटे सांताक्लॉज, बेल, स्नोमैंन अन्य बहुत सारे सामान भी सजाने में लगते हैं।


इस तरह मिला क्रिसमस ट्री

डगलस कहते हैं कि उन्होंने यह पेड़ अपनी बहन ट्वीला के साथ साल 1970 में 250 रूपये में खरीदा था।  उन्होंने यह पेड़ अपने पड़ोस में रहने वाले अपने एक मित्र से खरीदा था। वे कहते हैं कि मेरे मित्र ने अपने घर में इस पेड़ को बड़ा किया, जब यह पेड़ 5 या 6 फ़ीट का हो गया तो इसे घर में रखना कठिन होने लगा इसीलिए उसने बेचने का निर्णय किया और उससे यह पेड़ मैंने ले लिया। आज इस पेड़ की ऊंचाई 60 से 65 फ़ीट हो गयी। 


बन गया रिकॉर्ड

सलडाना का यह क्रिसमस ट्री मुंबई में ही नहीं बल्कि भारत का सबसे अधिक ऊंचा क्रिसमस ट्री बन गया है। इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लगती है। 2013 में इसे लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया था तो इस बार इसे इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है।




संबंधित विषय
ताजा ख़बरें