Advertisement

कांदिवली का जैन मंदिर कोविड सेंटर में हुआ तब्दील

मुंबई में ऑक्सीजन बेड की कमी है। बेड की कमी के कारण मरीज मर रहे हैं। सरकारी या निजी अस्पतालों में मरीजों को बेड नहीं मिल रहे हैं। ऐसी स्थिति में लोगों की मदद करने के लिए, जैन मंदिर को कोविड केंद्र में परिवर्तित करने का निर्णय लिया गया।

कांदिवली का जैन मंदिर कोविड सेंटर में हुआ तब्दील
SHARES

मुंबई (Mumbai) में कोरोना (Coronavirus) के मरीज बढ़ रहे हैं। इसलिए बेड कम पड़ने लगे हैं। इसके कारण, कांदिवली में जैन मंदिर ने पहल की और मंदिर को एक कोविड सेंटरमें बदल दिया। पांच मंजिला पवन धाम, मुंबई के कांदिवली क्षेत्र में एक जैन मंदिर है, जिसे पूरी तरह से कोविंड केंद्र में बदल दिया गया है। इसमें 100 ऑक्सीजन बेड होंगे।

मुंबई में ऑक्सीजन बेड की कमी है। बेड की कमी के कारण मरीज मर रहे हैं। सरकारी या निजी अस्पतालों में मरीजों को बेड नहीं मिल रहे हैं। ऐसी स्थिति में लोगों की मदद करने के लिए, जैन मंदिर को कोविड केंद्र में परिवर्तित करने का निर्णय लिया गया, मंदिर प्रशासन ने कहा। हमारे जैन मंदिर में एक अध्ययन कक्ष, ध्यान कक्ष, रसोई और कई अन्य कमरे हैं। यहां कई धार्मिक गतिविधियां नियमित रूप से शुरू की जाती हैं। लेकिन अब हम इसे पूरी तरह से एक कोविड देखभाल केंद्र में बदल रहे हैं।

मेहता ने कहा कि तकनीकी सेवा उपलब्ध करा दी गई है और यह सुविधा एक या दो दिन में चालू हो जाएगी। हमारे पास एक्स-रे मशीन और अन्य चिकित्सा आपातकालीन उपकरण भी हैं। गुप्ता ने कहा कि शिखर अस्पताल के डॉक्टर और कर्मचारी यहां सेवाएं देंगे।

प्रति दिन तीन हजार रुपये की दर से बेड उपलब्ध होंगे। इन शुल्कों में बिस्तर, ऑक्सीजन की आपूर्ति, चिकित्सा उपचार, दवा, डॉक्टर की फीस, भोजन और बहुत कुछ शामिल होंगे। मेहता के अनुसार, मंदिर में वातावरण के कारण रोगी तेजी से ठीक हो जाएंगे।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें