SHARE

वातावरण में कभी भीषण गर्मी तो कभी जोरदार बारिश से हमेशा बदलाव होते रहते हैं। मौसम में सतत होने वाले यह बदलाव मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है। साथ ही इस बदलाव से मच्छर और अन्य तरह के कीटाणुओं को भी पनपने का मौका मिलता है। यही नहीं इस वातावरण से मनुष्य का शरीर ठीक तरह से अनुकूल नहीं कर पता जिससे उसे सर्दी, बुखार, खांसी और बदनदर्द जैसे शिकायतों का सभी समाना करना पड़ता है। यही कारण होता है कि इस मौसम में डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियों से लोग अधिक ग्रसित होते हैं।

यह भी पढ़े : रहें सावधान, सितंबर महीने में अभी तक डेंगू से 102 मरीज हुए ग्रसित

बीएमसी के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एक आंकड़ें के अनुसार सितंबर महीने में 15 दिनों में डेंगू के 164 मरीज सामने आये हैं जबकि तीन लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा मात्र 15 दिनों में डेंगू के 1659 संशयित मरीजों की पहचान हुयी है।इसके पहले मात्र 11 दिनों में ही डेंगू के 102 लोग डेंगू से पीड़ित हो चुके थे। आंकड़ों की माने तो मात्र 4 दिनों में डेंगू से 62 नये मरीज सामने आये हैं। इस तरह से जनवरी से लेकर अगस्त यानी इन 8 महीनों में डेंगू से अब तक 293 मरीजों की पहचान हो चुकी है जबकि दो लोगों की मौत की भी खबर है।

अब तक डेंगू से जिन तीन लोगों की मौते हुयी है उनमे से जुहू में रहने वाला एक 9 वर्षीय लड़का और धारावी के डेढ़ साल के बच्चे शामिल हैं इन दोनों की मौत 10 सितंबर को हुयी। साथ ही 5 सितम्बर को बांद्रा के रहने वाले एक 34 साल के व्यक्ति की भी मौत डेंगू से हुयी।

यह भी पढ़े : मुंबई में डेंगू के मामलों में 265 प्रतिशत वृद्धि हुई

यही नहीं जो मरीज बिना डेंगू के लक्षण की जांच के बगैर ही अपना इलाज करवाना शुरू कर दिया उनके स्वास्थ्य में जरा भी सुधार नहीं हुआ। इसीलिए बीएमसी ने लोगों से आह्वान किया है कि कोई भी मरीज बिना जांच के दवा नहीं ले।


लेप्टो से दो की मौत

डेंगू के अलावा लेप्टो से भी दो लोगों की मौत होने की खबर सामने आई है। घाटकोपर का रहने वाला 19 वर्षीय लड़का 6 सितम्बर को और अँधेरी का रहने वाला एक 27 साल के युवक मी मौत 15 सितम्बर को हो गयी।

यह भी पढ़े : डेंगू प्रचार अभियान पर सवा 8 करोड़ खर्च


बीएमसी ने शुरू किया स्वास्थ्य दौरा

घाटकोपर और अंधेरी क्षेत्रों में स्वास्थ्य जांच के दौरान 1,660 घरों का दौरा किया गया। 5 हजार 760 लोगों की जांच की गई। इनमे से 7 लोगों को बुखार , 9 लोगों को खांसी और 4 को डायरिया से संबंधित दवाइयां दी गयी। बांद्रा, जुहू और धारावी क्षेत्रों में 1,653 घरों में जाकर 7 हजार 195 लोगों का निरीक्षण किया गया। इसमें 12 लोग बुखार हैं 7 लोगों को खांसी और 3 लोग डायरिया से पीड़ित थे जिनका इलाज शुरू किया गया।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दें) 

 





संबंधित विषय
ताजा ख़बरें