Advertisement

नगरसेवको को चाहिए महौपार की ओर से संरक्षण ।

नगरसेवको की मांग है की उनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज होने के पहले महापौर की इजाजत ली जाये।

नगरसेवको को चाहिए महौपार की ओर से संरक्षण ।
SHARES

बीएमसी के किसी भी कर्मचारी और अधिकारी के खिलाफ अपराधिक मामला दर्ज करने से पहले बीएमसी आयुक्त की अनुमति आवश्यक है। यदि आयुक्त की अनुमति है, तो शिकायत बीएमसी के कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ दर्ज की गई है। उसी तर्ज पर नगरसेवको ने मांग की है की उसकी खिलाफ भी शिकायत दर्ज करने से पहले महापौर की अनुमति जरुरी हो।


एक महीने में रिश्वत लेते हुए चार पुलिसवाले गिरफ्तार ।


दहिसर की आर उत्तर विभाग की सहायक आयुक्त संध्या नांदेडकर ने निर्माणकार्य को तोड़ने के मामले में शिवसेना के नगरसेविका शीतल म्हात्रे, हर्षल कारकर और बालकृष्ण ब्रिद पर पुलिस में मामला भी दर्ज कराया है। इसके कारण नगरसेविका शीतल म्हात्रे ने सहायक आयुक्त संध्या नांदेडकर को तुरंत उनके पद से हटाने की मांग की है। इसके साथ ही म्हात्रे का कहना है की बीएमसी के अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज होने पर उन्हे बीएमसी की ओर से कानूनी सहायता मिलती है लेकिन नगरसेवको को ऐसी कोई भी सहायता नहीं मिलती है। उनको खुद अपने खर्चे पर मामला लड़ना होता है।



महाराष्ट्र पुलिस के खिलाफ एक साल में 649 शिकायतें ।


जब हम सहायक आयुक्त के खिलाफ मामला दर्ज कराने गए तो हमसे कहा गया की हमे बीएमसी आयुक्त की इजाजत लेनी होगी, लेकिन नगरसेवको के उपर मामला दर्ज कराने के लिए किसी की भी इजाजत नही लेनी होती है। इसके साथ ही उन्होने यह मांग भी की बीएमसी कर्मचारियों की तरह उनपर भी शिकायत दर्ज करने के लिए महापौर की इजाजत जरुरी हो।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें