नसीब बदले ना बदले...चुनाव चिन्ह तो बदल ही गया।

 Kandivali
नसीब बदले ना बदले...चुनाव चिन्ह तो बदल ही गया।

कांदिवली- एक बहुत पूरानी कहावत है की सर मुंडाते ही ओले पड़ने लगें....कुछ ऐसा ही होता दिख रहा है वार्ड क्रमांक 39 क्रांति नगर में कांग्रेस से बीजेपी में आयी उम्मीदवार सुमन सिंह के साथ।

सुमन सिंह को वैसे ही नामांकन खत्म होने के कुछ घंटो पहले ही बीजेपी की सहयोगी पार्टी राजकीय समाज पार्टी की ओर से टिकट मिला। जिसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हे कप और प्लेट का निशान दिया था। लेकिन नामांकन खत्म होने के 6 दिन बाद चुनाव आयोग ने फिर से उन्हे नया चुनाव चिन्ह दिया है। और वह है शिलाई मशीन। सुमन सिंह का कहना ही कि उन्होने पहले ही कप और प्लेट के निशान के बैनर और पोस्टर बना रखे है। लिहाजा चुनाव आयोग के इस कदम के बाद उन्हे फिर से नये निशान के पोस्टर और बैनर बनाने होंगे। जिसमें ना ही सिर्फ समय बर्बाद होगा बल्की दोगुना खर्चा भी होगा।

Loading Comments