राजनीतिक पार्टियों की कंदिलबाजी

दादर - दिवाली आते है कंदिल की मांग बाजारों में बढ़ जाती है। आम क्या खास क्या ..हर कोई या तो अपेन घर या फिर अपने कार्यालय में कंदिल लगता है। कंदिल लगाने में राजनीतिक पार्टियां भी पिछे नहीं। कुछ ही महिनों बाद बीएमसी चुनाव होनेवाले है। जिसको देखते हुए हर राजनीतिक पार्टी अपना अपना दम दिखाना चाहती है। कांग्रेस, बीजेपी, शिवसेना या फिर मनसे, हर कोई बड़ी बड़ी कंदिल बनाकर शहर के अलग अलग इलाकों में बांध रहे है। मुंबई के दादर, माहिम, माटुंगा इलाके में इस बार अलग अलग राजनीतिक पार्टियों के बीच कंदिल वार देखने को मिल रहा है। इन सभी कंदिलों में पार्टियों ने अपने अपने पार्टी चिन्ह लगाए हुए है। इन कंदिलों कि किमत अमुमन 12 से 25 हजार तक होती है। कंदिल कारीगर लक्ष्मीकांत राऊत और पुरुषोत्तम मोडक का कहना है कि पिछलें की सालों से ये काम करते आ रहे है। इससे उन्हे अच्छी खासी कमाई हो जाती है। पार्टियों के लगे अवैध बैनरों पर तो बीएमसी कार्रवाई करती है लेकिन कंदिलों पर बीएमसी कोई सख्त कार्वाई नहीं करती। जिसे देखते हुए अब पार्टियों के बीच कंदिल वार देखी जा सकती है।

Loading Comments