किसान संगठनों में पड़ी फूट, हड़ताल रहेगी जारी

 Mumbai
किसान संगठनों में पड़ी फूट, हड़ताल रहेगी जारी

मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के साथ हुई बैठक में किसान संगठन ने हड़ताल रद्द करने का निर्णय लिया था, लेकिन कुछ ही घंटों में इस संगठन में फूट पड़ गई, जिससे पुणतांबा और नासिक के किसान संगठनों ने हड़ताल को समर्थन देने का फैसला लिया है।

कर्जमाफी और किसानों के उत्पादन को उचित भाव मिले इसके लिए महाराष्ट्र के कई जिलों के किसानों ने हड़ताल शुरू की थी। जिससे मुंबई सहित कई जिलों में दूध और सब्जियों की आवक कम होने से इनके भाव बढ़ गए। फडणवीस ने इन किसान संगठनो से शनिवार रात करीब 4 घंटे तक मैराथन मीटिंग की। उस मीटिंग के बाद किसानों ने हड़ताल वापस लेने की घोषणा की। लेकिन रविवार सुबह होते होते संगठन में फूट पड़ गई। किसानों सगठन में आपसी मतभेद के कारण कुछ किसान संगठनों ने हड़ताल का फिर से समर्थन करने की घोषणा की। इन संगठनो में पुणतांबा और नासिक किसान संगठन अधिक मुखर रहें।

किसान संगठन के पदाधिकारियों का कहना था कि हमारी कई मांगे नहीं मानी गई, हमें गुमराह किया गया। आरोप लगाते हुए इन्होने कहा कि मुख्यमंत्री ने कई बातों का गोलमटोल जवाब दिया है। मंत्री जी ने जो आश्वासन दिया है किसानो के साथ वे विश्वासघात करेंगे। कर्जमाफी और स्वामीनाथन आयोग सिफारिश को लागु नहीं किया गया है, इसीलिए हम यह हड़ताल जारी रखेंगे। 

इसी बीच अहमदनगर के कई किसानों ने शनिवार को मुंबई में मुख्यमंत्री आवास 'वर्षा' के सामने सड़कों पर दूध गिरा कर आन्दोलन किया। इस मामले में 8 किसानों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इनमें संभाजी पाटील, संतोष नानावटे, सोमनाथ कराले, रमेश बोरुडे समेत अन्य चार लोग शामिल थे। 

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 












Loading Comments